अफगानिस्‍तान में गिरे गैर एटमी बम में 36 आतंकी मारे गए, 1 भारतीय की भी मौत

9
SHARE

अमेरिका ने अफगानिस्‍तान में जो गैर एटमी बम गिराया है, उससे 36 आतंकी मारे गए हैं. एक भारतीय नागरिक मुर्शीद के मारे जाने की भी खबर है. अमेरिका ने गुरुवार को GBU-43 बम को पूर्वी अफगानिस्तान में शरण लिए इस्लामिक स्टेट आतंकियों के ठिकानों पर गिराया है. करीब 9,800 किग्रा वाले इस बम को सबसे बड़ा बम बताया जाता है. पेंटागन के प्रवक्ता ने बताया कि पहली बार इस बम का प्रयोग किया गया है और इसे MC-130 एयरक्राफ्ट से गिराया गया. इसको ‘मदर ऑफ ऑल बम’ कहा जाता है. यह बम नानगरहार प्रांत के अचिन जिले में एक सुरंगनुमा इमारत (टनल कॉम्पलैक्स) पर गिरा. अफगानिस्तान में अमेरिकी सुरक्षा बलों ने एक बयान में यह जानकारी दी. यह हमला स्थानीय समय के अनुसार गुरुवार शाम 7:32 (1502 जीएमटी) बजे हुआ. अफगानिस्तान के जिस इलाके में यह बम गिराया, वह पाकिस्तान सीमा के नजदीक है. पेंटागन के प्रवक्ता एडम स्टम्प ने बताया कि इस हथियार का लड़ाई में पहली बार इस्तेमाल किया गया.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता सीन स्पाइसर ने कहा कि हमने ISIS के आतंकियों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे सुरंगों और खोहों को निशाना बनाया. इस बात का पूरा ध्यान रखा गया कि इससे आम नागरिकों और उनकी संपत्तियों को कोई नुकसान न पहुंचे. स्पाइसर ने कहा कि ISIS के खिलाफ लड़ाई को अमेरिका बेहद गंभीरता से ले रहा है. अफगानिस्तान में अमेरिकी और विदेशी सुरक्षा बलों के प्रमुख जनरल जॉन निकोलसन ने कहा कि इस बम का इस्तेमाल ISIS के लड़ाकों के खिलाफ हुआ, जो सुरंगों को अपना ठिकाना बनाए रहते हैं.