गंगा, यमुना नदी पर जरा भी संकट आया तो उत्तर प्रदेश रेगिस्तान हो जाएगा: वाराणसी में CM योगी

18
SHARE

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के स्वतंत्रता भवन में आज उन्होंने ‘स्वच्छ गंगा’ सम्मलेन में प्रदेश की नदियों पर कहा कि उत्तर प्रदेश में सभी नदियों की हालत बेहद खराब है। गंगा तथा यमुना नदी को तो उत्तर प्रदेश की जीवन दायिनी माना जाता है। सीएम योगी ने कहा कि यमुना नदी दिल्ली, आगरा तथा मथुरा में बेहद गंदी है। अगर उत्तर प्रदेश में गंगा तथा यमुना नदी पर जरा भी संकट आया तो उत्तर प्रदेश रेगिस्तान हो जाएगा।
प्रदेश में जल दोहन का स्तर बढ़ता ही जा रहा है। हमको नदियों की हर हाल में रक्षा करनी होगी। इसके प्रयास में सौ फीसदी ईमानदार रहना होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गंगा नदी किनारे के 25 जिलों को बेहद गंभीर होना है। उत्तर प्रदेश पूरे देश का पेट भरने की क्षमता रखता है। इसके लिए पहले हमको नदियों की रक्षा करनी होगी। हमको सघन स्तर पर नदियों के किनारे पौधरोपण करना होगा। गंगा व यमुना के किनारे वृक्ष लगाकर हम तटबंधों की रक्षा कर पाएंगे। हमारा प्रयास इनकी रक्षा करने का होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम लोग नदियों में गंदगी फेंकने के साथ ही पैसे भी फेंकते हैं। पैसा गरीबों को दें, इसको गंगा या अन्य नदी में न डालें।

वाराणसी में स्वच्छ गंगा सम्मेलन में 1100 से ज्यादा ग्रामों के प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी भाग ले रहे हैं। सीएम योगी ने इन सभी से कहा कि गंगा नदी निर्मलीकरण योजना को धरातल पर लाएं। आप सभी पर सबसे बड़ा दायित्य है।