हरियाणा के बालू माफिया ने राष्ट्रीय पहलवान को जिंदा दफन करने का प्रयास किया

71
SHARE

हरियाणा के बालू माफिया ने यमुना खादर पहुंचे बदरखा के राष्ट्रीय पहलवान को जिंदा दफन करने का प्रयास किया। पता चलने पर बदरखा के सैकड़ों लोग दौड़ पड़े और दोनों ओर से आमने-सामने ताबड़तोड़ फायरिंग हुई। गोलीबारी में हरियाणा राकसेड़ा का किसान घायल हो गया। दोनों प्रदेशों के आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर वार्ता की|

बदरखा गांव निवासी राष्ट्रीय पहलवान ओम सिंह खेत में खाद डालने पहुंचे थे। आरोप है कि इसी दौरान उन्हें हरियाणा के बालू माफिया ने अगवा कर लिया और यमुना के बीच ले जाकर चाकू मारते हुए उनकी पिटाई की। इसके बाद पोर्कलेन से गड्ढा खोदकर उन्हें जिंदा दफन करने का प्रयास किया। खादर में काम कर रहे कुछ किसान गांव की ओर दौड़ पड़े और बदरखा में अनाउंस करा दिया। इसके बाद सैकड़ों महिलाएं-पुरुष बल्लम-भाला लेकर खादर पहुंचे और माफिया से भिड़ गए। उन्होंने माफिया को सीमा तक दौड़ा दिया और बालू खनन कर रही पोर्कलेन कब्जे में ले ली। इसके बाद हरियाणा के राकसेड़ा गांव से भी सैकड़ों लोग सामने आ गए और दोनों ओर से फायरिंग शुरू हो गई, जिससे गोली लगने से एक व्यक्ति घायल हो गया|

उधर, बदरखा के ग्रामीणों ने यमुना की रोकी गई धार काट दी और पानी का प्रवाह शुरू करा दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस एक किमी. दूर तमाशबीन बनी रही। घटना के बाद बागपत एडीएम डीपी सिंह, एएसपी अजीजुल हक आदि पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे। दूसरी ओर से समालखा के पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंचे। दोनों प्रदेशों के अफसरों में वार्ता के बाद सुलह कराने का प्रयास किया गया। फिलहाल, दोनों ओर के लोगों का खादर में जाना प्रतिबंधित कर दिया गया है। दूसरी ओर दोनों राज्यों के बीच तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गई है|