जेडे हत्याकांड: गैंगस्टर छोटा राजन समेत नौ को उम्रकैद

32
SHARE

आज पत्रकार जेडे हत्याकांड मामले में छोटा राजन समेत नौ दोषियों को महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गनाइज्ड क्राइम एक्ट (मकोका) की कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। इस मामले में मुख्य आरोपी राजन अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का पूर्व गुर्गा है। सुनवाई के दौरान राजन को कोर्ट ने दोषी करार दिया था, जबकि एक अन्य पत्रकार जिगना वोरा को बरी कर दिया गया है। ऐसे में राजन पहली बार जेल की सजा काटेगा।

11 जून 2011 को वरिष्ठ पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या कर दी गई थी। मुंबई के पवई इलाके में वह बाइक से अपने घर जा रहे थे, तभी दिनदहाड़े उन्हें गोली मार दी गई थी। कुख्यात अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रंजिश में उनकी हत्या हुई थी। जेडे मुंबई में माने हुए क्राइम रिपोर्टर माने जाते थे। वह मिड डे अखबार में काम करते थे।

शिकंजा और सवालशिकंजा और सवालछोटा राजन इंडोनेशिया में गिरफ्तार, किया जा सकता है निर्वासितछोटा राजन इंडोनेशिया में गिरफ्तार, किया जा सकता है निर्वासितजेडे मर्डर केस: दाऊद इब्राहिम का गुर्गा छोटा राजन दोषी, महिला पत्रकार जिगना वोरा बरीजेडे मर्डर केस: दाऊद इब्राहिम का गुर्गा छोटा राजन दोषी, महिला पत्रकार जिगना वोरा बरीराजन को लाने में नहीं कोई मुश्किल: भारतराजन को लाने में नहीं कोई मुश्किल: भारतशिकंजा और सवालशिकंजा और सवालछोटा राजन इंडोनेशिया में गिरफ्तार, किया जा सकता है निर्वासितछोटा राजन इंडोनेशिया में गिरफ्तार, किया जा सकता है निर्वासितजेडे मर्डर केस: दाऊद इब्राहिम का गुर्गा छोटा राजन दोषी, महिला पत्रकार जिगना वोरा बरीजेडे मर्डर केस: दाऊद इब्राहिम का गुर्गा छोटा राजन दोषी, महिला पत्रकार जिगना वोरा बरीराजन को लाने में नहीं कोई मुश्किल: भारतराजन को लाने में नहीं कोई मुश्किल: भारत

राजन का असली नाम सदाशिव निखलांजे हैं। 2015 में उसे इंडोनेशिया के बाली में अरेस्ट किया गया था। फिर वहां से उसे दिल्ली लाया गया था, जबकि जेडे हत्याकांड में अन्य आरोपी विनोद असरानी की मौत हो चुकी है।

जिगना पर यह था आरोप: वरिष्ठ पत्रकार की हत्या के मामले की जांच शुरू में मुंबई पुलिस कर रही थी। लेकिन 2016 में इसे केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया गया था। आरोप था कि पत्रकार जिगना ने जेडे की मोटरसाइकिल की नंबर प्लेट और उनके घर के पते की सूचना डॉन तक पहुंचाई थी।

राजन ने कहा था कि उसने जेडे की हत्या नहीं कराई। मगर सीबीआई के अनुसार, जेडे की रिपोर्ट्स से आजिज आकर राजन ने उन्हें गोली मरवाई थी। सूत्रों की मानें तो जेडे उस वक्त एक किताब लिख रहे थे, जिसमें उन्होंने राजन को चिंदी (तुच्छ अपराधी) बताया था।

छोटा राजन ने अपने गुर्गे सतीश काल्या को फोन कर जेडे का कत्ल करने के लिए कहा था। काल्या ने सात लोगों का गैंग बनाया और गाड़ी बंदूकों का बंदोबस्त किया था। हत्या से पहले हमलावरों ने जेडे के घर के आसपास की रेकी भी की थी।