सरकार अपराधी पकड़े, आलू किसान नहीं

37
SHARE

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को विधानसभा के सामने आलू फेंकने के मामले में गिरफ्तारी को लेकर कहा-‘सरकार अपराधी पकड़े आलू किसान नहीं। एलान किया कि समाजवादी पार्टी किसानों की बदहाली व अन्य मुद्दों को लेकर 27 जनवरी को प्रदेश की सभी तहसीलों में धरना-प्रदर्शन करेगी। इस दौरान कार्यकर्ता जिलाधिकारी को एक बोरी आलू भेंट करेंगे। साथ ही आवारा जानवर भी उन्हें दिए जाएंगे।

पार्टी मुख्यालय में समाजवादी छात्र सभा के बैनर तले जीते छात्र संघ के पदाधिकारियों को संबोधित करने के बाद पत्रकारों के सवाल पर अखिलेश सरकार के प्रति आक्रामक नजर आए। कहा, भाजपा जो कहती है, वह करती नहीं है और जो करती है, उसका पता नहीं चलता। इसे लोगों का ध्यान बंटाने में महारत हासिल है। यह कभी भी ध्यान भटका सकती है। चार जजों ने प्रेस कांफ्रेंस की तो लोगों का ध्यान बंटाने के लिए चिदंबरम के यहां छापा डाल दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में असल मुद्दों का अनदेखी की जा रही है।

कानून व्यवस्था की हालत खराब है। सरकार बेहतर कानून व्यवस्था दे, हम विपक्ष के रूप में सहयोग करेंगे। छात्रसंघ पदाधिकारियों को नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी, स्वामी अग्निवेश ने भी संबोधित किया। संचालन प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने किया। समाजवादी छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव ने पदाधिकारियों का परिचय दिया।

इससे पहले छात्रसंघ पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा कि केंद्र सरकार ने कहा कि एफडीआइ ले आएंगे। जीएसटी और एफडीआइ से देश का क्या हाल होगा, कोई नहीं जानता। इसका सबसे अधिक असर भाजपा के स्वदेशी नारे पर ही पड़ेगा। एफडीआइ स्वदेशी आंदोलन को खत्म कर देगा। उन्होंने युवाओं से कहा कि यह दौर नई टेक्नालॉजी का है। वे टेक्नालॉजी से जुड़ेंं और इसका बेहतर व अच्छा इस्तेमाल करें।

अखिलेश ने गोरखपुर महोत्सव के बहाने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष किए। कहा कि हमारा महोत्सव होता था तो बहुत बुराई करते थे। हम नहीं करेंगे, क्योंकि हम खुद भी उत्सव मनाते थे लेकिन, योगीजी आप पीछे रह गए। बजट बढ़ाइए। जो सीएम अपने यहां के लिए बजट नहीं दे सकता, उससे कमजोर मुख्यमंत्री कोई नहीं। उन्होंने महोत्सव के दौरान ईवीएम मशीनों के मेंटेनेंस पर भी आपत्ति जताई। कहा कि जब पूरा प्रशासन महोत्सव में व्यस्त हैै तो मेंटेनेंस कराने का प्रयोजन क्या है।

विधानसभा के सामने आलू फेंके जाने के मामले में कुछ सपाइयों की गिरफ्तारी को लेकर अखिलेश ने कहा कि मैं उन्हें यश भारती दूंगा। उनके घर के पड़ोस में पूर्व विधायक के बेटे की हत्या हो जाती है। वह अपनी हैसियत में रहें। चोर-बदमाश को तो पकड़ नहीं पा रहे, आलू किसानों को गिरफ्तार कर रहे हैं, यह कौन सी बड़ी उपलब्धि है।