SHARE
फिल्म के आखिरी सीन में दिखाया गया है कि महावीर सिंह फोगट को स्टेडियम के एक कमरे में बंद कर दिया जाता है और ऐसा गीता के कोच करवाते हैं। जबकि सोंधी के मुताबिक ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था। उनकी छवि को बिगाड़ने की कोशिश की गई है।गीता फोगट के कोच पीआर सोंधी ने दंगल टीम के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी है। गीता फोगट ने कहा है कि ‘फिल्म में थोड़े बहुत बदलाव चलते हैं। हां इतना जरूर है कि मेरे पिता को कमरे में बंद नहीं किया गया था उन्हें एरीना (वह एरिया जहां पर रेसलर और रेसलिंग स्टाफ को रहने की मंजूरी होती है) में आने से रोका गया था।…बाद में उन्होंने गैलरी में बैठकर मैच देखा था|
इस सवाल के जवाब में गीता ने कहा, “कुछ हद तक यह सही भी है, ‘मेरे पिता ट्रेनिंग में मेरी मदद करना चाहते थे, लेकिन कोच उन्हें ऐसा करने से रोकते थे। कई बार तो गेट भी बंद कर दिया जाता था, जिससे उनका आहत होना लाजिमी है। फिल्म में दिखाया गया है कि मैंने फाइनल मैच बहुत मुश्किलों से जीता था, लेकिन सही मायनों में फाइनल नहीं सेमीफाइनल मैच मैंने मुश्किलों से जीता था। सबसे बड़ी बात यह है कि मैं अपने कोच को पिता की तरह सम्मान देती हूं। वैसे भी फिल्म में किसी कोच का नाम नहीं लिया गया है, फिर भी वे कार्रवाई करना चाहते हैं तो यह उनका अधिकार है। कुछ बदलाव फिल्म को रोचक बनाने के लिए भी किए गए हैं|
महावीर फोगट-“यह सही है, मैं गीता को कुछ टिप्स देना चाहता था, लेकिन मुझे उससे मिलने ही नहीं दिया गया।”