बांदा में हत्याकांड में दोषी पाए जाने पर पिता और तीन बेटों को उम्रकैद की सजा

15
SHARE

बांदा जिले की एक अदालत ने एक ही परिवार के युवक की हत्या और दो अन्य को कुल्हाड़ी तथा लाठी से हमला कर घायल किये जाने के करीब आठ साल पुराने एक मामले में कल पिता, तीन पुत्रों और एक अन्य दोषी को उम्रकैद और जुर्माने की सजा सुनाई है. अभियोजन पक्ष के अनुसार, 26 अप्रैल 2010 की देर शाम देहात कोतवाली के लुकतरा में हीरालाल नामक व्यक्ति पर भगवानदीन, उसके तीन पुत्रों कमलेश, बच्चा और लल्लू के साथ-साथ करिया नाम के एक अन्य आदमी ने लाठी और कुल्हाड़ी से हमला कर दिया था.

हीरालाल को बचाने पहुंचे नीरज और लवलेश पर भी हमला किया गया था. वारदात में गम्भीर रूप से घायल हुए नीरज की अस्पताल पहुंचते ही मौत हो गई थी.

विशेष न्यायाधीश (आवश्यक वस्तु अधिनियम)/अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेश कुमार-तृतीय की अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद भगवानदीन, उसके तीन आरोपी पुत्रों तथा रामबाबू को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास और 10-10 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनायी.