बरेली डीएम का फेसबुक पोस्ट, मुख्यमंत्री नाराज, डिप्टी सीएम ने लगाई फटकार

120
SHARE

कासगंज हिंसा पर बरेली के डीएम कैप्टन राघवेंद्र विक्रम सिंह की फेसबुक पोस्ट से बवाल खड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर नाराजगी जताई है।

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने डीएम को चेतावनी देते हुए कहा कि वह विपक्ष के प्रवक्ता की तरह न बोलें। सरकार अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं करेगी। इस तरह के मामलों कार्रवाई की जाएगी। उधर, डीएम बरेली ने पहले के पोस्ट को डिलीट कर दिया और मंगलवार को फेसबुक पर दूसरी पोस्ट देकर सफाई दी है।

बरेली के डीएम कैप्टन राघवेंद्र ने रविवार रात फेसबुुक अकाउंट पर पोस्ट किया था, ‘अजब रिवाज बन गया है, मुस्लिम मोहल्लों में जबर्दस्ती जुलूस ले जाओ और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाओ। क्यों भाई वो पाकिस्तानी हैं क्या? यही यहां बरेली में खैलम में हुआ था। फिर पथराव हुआ व मुकदमे लिखे गए।’ डीएम के इस पोस्ट ने सियासी गलियारों में चर्चा का बाजार गर्म कर दिया।

सरकार ने डीएम को ऐसी हरकत से बाज आने की हिदायत दी है। इसके बाद जिलाधिकारी ने अपनी पोस्ट डिलीट कर दी। मगर मंगलवार को एक बार फिर एफबी पर पोस्ट के जरिये अपनी राय दी। उन्होंने लिखा कि ‘हमारी पोस्ट बरेली में कांवर यात्रा के दौरान आई कानून-व्यवस्था की समस्या से संबंधित थी।

डीएम ने अंग्रेजी में लिखा, ‘आई हैड होप्ड देयर विल बी अकैडमिक डिसीजन बट अनफॉर्चुनेटली इट हैड टेकन अ डिफरेंट टर्न। एक्सट्रीमली सैड।’ उन्होंने आगे लिखा है कि हम आपस में चर्चा इसलिए करते हैं कि हम बेहतर हो सकें। ऐसा लगता है कि इससे लोगों को आपत्ति भी है और तकलीफ भी। हमारी मंशा कोई कष्ट देने की नहीं थी।

‘सांप्रदायिक माहौल सुधारना प्रशासनिक एवं नैतिक जिम्मेदारी है हम लोगों की। मुस्लिम हमारे भाई हैं। हमारे ही रक्त… डीएनए एक ही है हमारा। हमें उन्हें वापस लाना नहीं आया। इस पर फिर कभी… एकीकरण और समरसता के भाव को जितनी जल्दी हम समझें उतना बेहतर है देश के लिए, हमारे प्रदेश और हमारे जनपद के लिए। पाकिस्तान शत्रु है इसमें कोई संदेह नहीं। हमारे मुस्लिम हमारे हैं इसमें भी कोई संदेह नहीं। मैं चाहता हूं कि यह विवाद खत्म हो। मेरी वजह से मेरे किसी दोस्त या भाई को कष्ट हुआ तो इसके लिए क्षमा चाहता हूं।’