पूर्व विधायक उमाशंकर कुशवाहा ने की घर वापसी

84
SHARE

उत्तर प्रदेश को-आपरेटिव यूनियन के चेयरमैन व पूर्व विधायक उमाशंकर कुशवाहा ने भाजपा छोड़ दी है और वह एक बार फिर बसपा में शामिल हो गए। पिछले हफ्ते बसपा के सेक्टर प्रभारी वाराणसी और पूर्व सांसद घनश्याम चंद्र खरवार ने उमाशंकर कुशवाहा और उनके कई समर्थकों को बसपा की सदस्यता ग्रहण कराई। इस मौके पर पूर्व सांसद अफजाल अंसारी भी मौजूद रहे।

उमाशंकर कुशवाहा ने आरोप लगाया कि भाजपा में पिछड़ों का सम्मान नहीं है, इससे वह आहत थे और फिर से बसपा में शामिल हो गए हैं। उन्होंने प्रदेश की योगी सरकार पर भी निशाना साधा। उमाशंकर कुशवाहा ने कहा कि भाजपा की ऐसी कोई नीति नहीं है जिससे पिछड़ों को भला हो सके। यह सिर्फ झूठ की राजनीति कर रहे हैं। इसीलिए हमने अपने समर्थकों के साथ बसपा में शामिल होने का निर्णय लिया।

उमाशंकर कुशवाहा गाजीपुर सदर विधानसभा सीट से 2007 में बसपा से विधायक चुने गए थे। बाद में वह सपा और भी भाजपा में भी गए लेकिन अब उन्होंने घर वापसी कर ली है। उमाशंकर कुशवाहा की अपने समाज में अच्छी पैठ है और लोकसभा चुनाव के दौरान उनका बसपा में शामिल होना इस पार्टी के लिए फायदेमंद हो सकता है।