अब देशभर में एक ही बीएड प्रवेश परीक्षा

18
SHARE

उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन के पदाधिकारियों को एनसीटीई के सदस्य सचिव संजय अवस्थी ने बताया कि अगले सत्र से बीएड की प्रवेश परीक्षा प्रणाली में बदलाव की तैयारी की जा रही है|पूरे देश के बीएड कॉलेजों में प्रवेश के अब एक ही परीक्षा आयोजित होगी। इसके लिए नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (एनसीटीई) मसौदा तैयार कर रहा है।

देशभर के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए शुरू हुई नेशनल इलेजिबिलिटी कम इंट्रेंस टेस्ट (नीट) की तरह अब टीचर्स ट्रेनिंग में प्रवेश के लिए भी एक परीक्षा कराए जाने की तैयारी है। इस परीक्षा में सफल छात्रों की मेरिट तैयार की जाएगी। बाद में बीटीसी और बीपीएड समेत कई अन्य टीचर्स ट्रेनिंग कोर्स में दाखिले के लिए एक ही प्रवेश परीक्षा कराये जाने की योजना को अमलीजामा पहनाया जा सकता है। एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी ने बताया कि नीट की तरह टीचर्स एजुकेशन की एकल परीक्षा कराए जाने के साथ एनसीटीई कैरिकुलम में बदलाव की तैयारी भी कर रहा है|

बीएड व बीटीसी का एक पाठ्यक्रम : एनसीटीई ने कक्षा एक से 12वीं तक पढ़ाने वाले शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए एक पाठ्यक्रम होगा। कक्षा छह से 12वीं तक के स्कूलों में पढ़ाने के लिए बीएड व कक्षा एक से पांचवीं तक के स्कूलों में पढ़ाने के लिए बीटीसी का कोर्स नहीं करना होगा। इसके लिए एनसीटीई इंटीग्रेटेड कोर्स तैयार करेगा। इसका खाका भी तैयार किया जा रहा है। कोर्स में बदलाव की तैयारी भी शुरू हो चुकी है|
एक नजर में बीएड कॉलेज :
– प्रदेश में 1800 बीएड कॉलेज।
– दो लाख से अधिक सीटें।
– कानपुर विवि से 200 बीएड कॉलेज संबद्ध।
– इनमें करीब 25 हजार सीटें।