earth day पर जानिए पृथ्वी के बारे में रोचक बाते

107
SHARE

22 अप्रैल को दुनिया भर में पृथ्वी दिवस मनाया जाता है, जिसे पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्थन प्रदर्शित करने के लिए आयोजित किया जाताा है। अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन के द्वारा एक पर्यावरण शिक्षा के रूप में की गयी और अब इसे 192 से अधिक देशों में प्रति वर्ष मनाया जाता है।

आज पृथ्वी पर बढ़ते आधुनिकीकरण के कारण प्रदुषण काफी फ़ैल गया है। ग्लोबल वार्मिंग दिन-ब-दिन बढ़ रही है। अगर यही सब इसी तरह चलता रहा तो पृथ्वी का अस्तित्व संकट में आ जाएगा। इसी कारण पृथ्वी को बचाने कि पहल करते हुए 45 साल पहले 22 अप्रैल के दिन अमेरिका में पहली बार अर्थ डे का सेलिब्रेशन हुआ था। 192 देश इस दिवस को एक साथ मनाते हैं। अमेरिकी सीनेटर गेलार्ड नेल्सन के कारण ही 22 अप्रैल को ही विश्व पृथ्वी दिवस मनाये जाने कि शुरुआत हुयी। उनका पर्यावरण से बहुत लगाव था।

पृथ्वी का नाम पौराणिक कथा पर आधारित है जिसका संबंध महाराज पृथु से है, वैज्ञानिकों के अनुसार पृथ्वी की कुल उम्र 4 .6 अरब वर्ष मानी गई हैं। पृथ्वी पर रोजाना 4500 बादल पृथ्वी पर गरजते हैं, हर सेकंड पृथ्वी पर कहीं न कहीं 100 बार आसमानी बिजली गिरती है, पृथ्वी के 29% भाग भू-भाग है और 71% पानी ही पानी है।, पृथ्वी पर 97 % पानी खारा है या पीने लायक नहीं है और मात्र 3% ही पीने लायक साफ़ पानी है।

पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण शक्ति के कारण पर्वतों का 15,000 मीटर से ऊँचा हो पाना संभव नही है, पृथ्वी पर मापा गया सबसे कम तापमान – 89. 2 डिग्री सेल्सियस है, पृथ्वी 1670 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से घूमती है, अगर चन्द्रमा पृथ्वी का उपग्रह नहीं होता तो धरती पर दिन लगभग 30 घंटों का होता।

धरती पे मौजूद हर जीव में कार्बन जरूर है, पृथ्वी आकाश गंगा का टैकटोनिक प्लेटों की व्यवस्था वाला एकमात्र ग्रह है, पृथ्वी के भू-भाग का सिर्फ 11 प्रतीशत हिस्सा ही भोजन उत्पादित करने के लिए उपयोग किया जाता है, धरती पर हर साल 5 लाख भूकंप आते हैं। इनमें से एक लाख भूकंप सिर्फ महसूस किए जाते हैं जबकि 100 विनाशकारी होते हैं, हर वर्ष लगभग 30,000 आकाशीय पिंड धरती के वायुमंडल मे दाखिल होते हैं। पर इनमें से ज्यादातर धरती के वायुमंडल के अंदर पहुँचने पर घर्षण के कारण जलने लगते है जिन्हें कई लोग ‘टूटता रा’ कह कर पुकारते हैं, पृथ्वी के केंद्र में इतना सोना मौजूद है जिससे 1.5 फीट की चादर से धरती की पूरी सतह को ढंका जा सकता है।