झारखंड में वॉट्सऐप के कारण भीड़ ने 7 लोगों की हत्या की

53
SHARE

झारखंड में इन दिनों एक वॉट्सऐप मैसेज की वजह से लोगों की जानें जा रही है। इस वॉट्सऐप मैसेज में लिखा गया है कि बच्चा चोरों का गिरोह कहीं भी मिल सकता है। वो आपके बच्चे को अगवा कर सकता है। ऐसे लोग हिंदी, बंगला या मलयालम भाषी हो सकते हैं। इस मैसेज के वॉट्सऐप पर वायरल होने के बाद से महज दो दिनों में ही अलग अलग घटनाओं में कम के कम 7 लोगों की भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या की जा चुकी हैं। खास बात ये है कि प्रशासन अबतक ऐसे मैसेज के वायरल के पीछे कौन से लोग हैं, उनकी पहचान में असफल रही है।

झारखंड के सरायकेला-खरसावन, पूर्वी सिंघभूम और पश्चिमी सिंघभूम जिलों में ये वॉट्सऐप मैसेज वायरल हो रहा है। इस मैसेज में हिंदी में लिखा है, ‘बच्चों को अगवा करने वाले लोग सक्रिय हैं। ये अपने पास नशे के इंजेक्शन, स्प्रे, कपड़े और छोटे तौलिए रखते हैं। ऐसे लोग बच्चों को कहीं से भी अगवा कर सकते हैं। ये लोग हिंदी, बंगला या मलयालम में बात करते हैं। अगर ऐसे लोग कहीं भी दिखें, तो स्थानीय पुलिस थाने में सूचना दें। ये लोग बच्चा चोर गैंग से जुड़े हो सकते हैं।

इस मैसेज के तेजी से फैलने के साथ ही कई जगहों पर भीड़ ने लोगों पर बच्चाचोर होने शक में हमले किए हैं। भीड़ 2 मामलों में ही अबतक 7 ऐसे लोगों की पीट पीटकर हत्या कर चुकी है। लोग हथियारों से भी हमले कर रहे हैं।

पुलिस ने कहा है कि अभी उसके पास ऐसे मैसेज से संबंधित कोई सूचना नहीं मिल पाई है। न ही वो ऐसे मैसेज फैलाने वाले लोगों की पहचान ही कर पाई है।

पूर्वी सिंघभूम ग्रामीण इलाके के पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र बर्नवाल ने कहा कि हम सर्विस प्रोवाइडर्स के साथ संपर्क में हैं। हम सोशल मीडिया को लेकर रणनीति भी बना रहे हैं कि कैसे इस अफवाह को रोका जाए।

source-AU