‘पाकिस्तान कर रहा कैमिकल हथियार का प्रयोग’- रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर

51
SHARE

रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान ने अफगानिस्तान से लगी सीमा पर जिन हथियारों का प्रयोग किया है उसमें कैमिकल हथियार भी हो सकते हैं|

एएनआई के ट्वीट के मुताबिक डीआरडीओ (DRDO) के एक कार्यक्रम में रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा, ‘अफगानिस्तान और उत्तरी हिस्सों से कई ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं, जहां मैंने तस्वीरों में देखा कि स्थानीय लोग शरीर पर चकत्ते या किसी तरह के केमिकल वेपंस से प्रभावित नजर आते हैं|’ रक्षामंत्री के मुताबिक, तस्वीरें विचलित करने वाली थीं|

एएनआई के ट्वीट के मुताबिक मनोहर पर्रिकर ने यह भी कहा कि वह इस वक्त इस मुद्दे की पुष्टि नहीं कर सकते, लेकिन देश को किसी भी किस्म की जंग के लिए तैयार रहना चाहिए| पर्रिकर ने कहा कि देश पर न्यूक्लियर, केमिकल या बायलॉजिकल हमले का खतरा हो या न हो, लेकिन देश भविष्य में किसी भी आशंका से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है|

गौरतलब है कि पाकिस्तान से भारत को हमेशा खतरा बना रहा है| अभी तक तीन बार भारत की जमीं पर हमला कर चुका है| इसलिए रासायनिक हथियारों के प्रयोग का संशय बना रहेगा और ऐसे में किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए भारत को तैयारी करनी होगी|

डीआरडीओ में बोलते हुए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि देश के ऊपर भले ही परमाणु, रासायनिक या जैविक खतरा न हो, हमें हर समय इन खतरों से निपटने के लिए तैयार रहना चाहिए। अफगानिस्तान के कुछ हिस्सों में रासायनिक हमले के बारे में उन्होंने कहा कि कुछ फोटो के जरिए उनतक ये जानकारी सामने आई है। ये बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान में कुछ लोगों के शरीरों पर फफोले हैं जिसके पीछे रासायनिक हथियारों से किया गया हमला हो सकता है।लेकिन अभी पुख्ता तौर पर कुछ कह पाना मुश्किल है|

इस्लामिक स्टेट आतंकवादी समूह अधिक से अधिक लोगों को हताहत करने के लिए ब्रिटेन में रासायनिक हमले की साजिश रच रहा है।ब्रिटेन के सुरक्षा मामलों के प्रभारी मंत्री बेन वालेस ने कहा कि इस्लामिक स्टेट ने सीरिया और इराक में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया था और खुफिया प्रमुखों का मानना है कि उसकी ब्रिटेन में इनका इस्तेमाल करने की इच्छा है|

उन्होंने कहा कि आईएस या दाएश की आकांक्षा निश्चित तौर पर अधिक से अधिक लोगों को हताहत करने वाला हमला करने की है। वे अधिक से अधिक लोगों को नुकसान पहुंचाना और अधिक से अधिक लोगों को आतंकित करना चाहते हैं। वह बिना किसी नैतिकता के आबादी के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल करते हैं और अगर वे कर सके तो वे इस देश में करेंगे|

क्या होता है रासायनिक हमला?

रासायनिक हमला जहरीली गैसों या ठोस पदार्थों को जानबूझकर छोड़ना है, जिससे पर्यावरण विषैला हो जाते हैं|

रासायनिक हमले के संभावित संकेत-

अनेक लोगों को पानी से भरी आंखों, जलन,अवरोध की शिकायत होती जिससे साँस लेने या समन्वय बनाये रखने में तकलीफ होती है|
रासायनिक हमले से कैसे बचें

यदि संभव हो तो तुरंत प्रभावित क्षेत्र या उस जगह को परिभाषित करने का प्रयत्न करें जहाँ से रसायन आ रहा है। तुरंत दूर जाने की कार्रवाई करें। यदि रसायन उस इमारत के भीतर है जिसमें आप हैं तो यदि संभव हो तो दूषित क्षेत्र से गुजरे वगैर इमारत के बाहर आ जायें। यदि आप उस क्षेत्र से गुजरे वगैर इमारत के बाहर नहीं आ सकते हैं या ताजी हवा प्राप्त नहीं कर सकते हैं जहाँ आपने रासायनिक हमले के संकेत देखे हैं, तो बेहतर होगा कि जितना जल्दी संभव हो सके दूर हट जायें और शरण लें। यदि आप बाहर हैं तो तुरंत निर्णय करें कि साफ हवा पाने का सबसे तेज तरीका कौन सा है। क्षेत्र के बाहर आने पर विचार करें या फिर आपको सबसे भीतर की इमारत के अंदर जाकर शरण लेनी चाहिये|