गोरखपुर में बच्चों की मौत के मामले में डॉ. सतीश ने आत्मसमर्पण किया

54
SHARE

गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 30 बच्चों की मौत के मामले में डा. सतीश कुमार ने यहां भ्रष्टाचार निवारण कोर्ट में समर्पण कर दिया है।

बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में दस व 11 अगस्त की रात 30 से अधिक बच्चों की हुई मौत के मामले में डॉ सतीश अभियुक्त हैं। घटना के बाद से ही फरार चल रहे थे। बच्चों की मौत के मामले में फंसे डॉ. कफील खान के घर पुलिस और मेडिकल विभाग की टीम ने एक साथ छापेमारी की। टीम की छापेमारी से वहां हड़कंप मच गया था, लेकिन कफील का पता नहीं चला। जिसके बाद उत्तर प्रदेश एसटीएफ ने गोरखपुर से गिरफ्तार किया था। अब इस मामले में एक और डॉ सतीश ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। अब तक इस मामले में पांच आरोपी गिरफ्त में आ चुके हैं। कुल नौ लोगों के खिलाफ इस मामले में मुकदमा दर्ज हुआ था।

डॉ. कफील के बाद लिपिक सतीश पांडेय को परसों गिरफ्तार किया गया था। कुल पांच लोग अब तक शिकंजे में हैं। मासूमों बच्चों की मौत के मामले में फरार डॉ सतीश ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया। जहां से एडीजे- 8 की कोर्ट में तैनात जज शिवानंद सिंह ने आरोपी डॉक्टर को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा ।

डॉ सतीश की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने वारंट जारी किया था। बावजूद इसके पुलिस को चकमा देते हुए डॉ सतीश ने आज कोर्ट में सरेंडर किया है। इस दौरान मीडिया ने डॉ सतीश से बात करने की कोशिश की लेकिन आरोपी डाक्टर सतीश मीडिया के कैमरों से बचते नजर आये।

बीआरडी प्रकरण में इससे पहले 4 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। जिसमें प्रिंसिपल डाॅ राजीव मिश्रा, उनकी पत्नी पूर्णिमा शुक्ला, डॉ कफील खान और लिपिक सुधीर पाण्डेय शामिल है।