भारत में एफ-16 लड़ाकू विमानों का निर्माण डोनाल्ड ट्रंप के कारण मुश्किल में

11
SHARE

भारत में एफ-16 लड़ाकू विमानों का निर्माण राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कारण मुश्किल में पड़ सकता है| पेंटागन से एफ-16 विमानों के लिए नए ऑर्डर नहीं होने के कारण ‘लॉकहीड’ की योजना पांचवीं पीढ़ी के एफ-35 लड़ाकू विमानों के उत्पादन के बजाय टैक्सास प्लांट को मजबूती देने की है। जब तक भारत सरकार वायुसेना की जरूरतों के हिसाब से सैकड़ों विमानों के ऑर्डर देने पर सहमत होती है|

अमेरिका की रक्षा कंपनी ‘लॉकहीड मॉर्टिन’ चाहती है कि भारत को एफ-16 युद्धक जेट विमानों के उत्पादन की दिशा में आगे काम किया जाए। इसके तहत भारत में ही विमानों का उत्पादन करने की योजना है, लेकिन कंपनी को लगता है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन इस प्रस्ताव पर नए सिरे से विचार कर सकता है। फिलहाल व्हाइट हाउस ने इस पर कोई भी टिप्पणी नहीं की है।

 ‘लॉकहीड’ भारत में एफ-16 का उत्पादन करना चाहेगी। जबकि ट्रंप चाहते हैं कि विदेशों में निर्माण करने वाली अमेरिकी कंपनियां अपने देश में वापस लौटें और अमेरिका में उत्पादन बढ़ाकर विदेशों में उसकी बिक्री करें।

‘लॉकहीड’ के मामले में एफ-16 विमानों को भारतीय वायुसेना के लिए निर्माण करने की योजना है जिसे अमेरिका में नहीं बेचा जाना है। कंपनी के मुताबिक भारत को विमान बिक्री के संबंध में कंपनी ने ट्रंप की ट्रांजिशन और शासकीय टीम के अलावा अमेरिकी कांग्रेस से भी योजना पर बात की है।

प्रवक्ता ने कहा कि – हमने ट्रंप प्रशासन को वर्तमान प्रस्ताव के बारे में बता दिया है जिस पर भारत से संवाद बनाने के लिए ओबामा प्रशासन ने भी सहमति जताई थी। लेकिन हमें लगता है कि ट्रंप प्रशासन अपनी प्राथमिकताओं के हिसाब से इस मसले पर नए सिरे से विचार कर सकता है।