यूपी में बेटी की शादी के लिए पैसे नहीं मिले, पिता की मौत, सुबह उठी अर्थी; शाम को हुआ तिलक

45
SHARE
नोटबंदी ने आम लोगों की जिंदगी को बहुत प्रभावित किया है। उनकी दिनचर्या तक बदल गई है। देशभर में ऐसे दृश्य देखे जा रहे हैं, जिनके बारे में पहले सोचा तक नहीं जा सकता था। ‘नोटबंदी के साइड इफेक्ट्स’ में आम लोगों से जुड़े रोचक, रोमांचक, भावनात्मक, मार्मिक और हृदय विदारक किस्से सामने आ रहे हैं।
यूपी के बलिया में पूरे दिन बैंक की लाइन में खड़ा रहने के बावजूद जब पैसा नहीं मिला तो एक अधेड़ की मौत हो गई। बुधवार सुबह बाप की उठी अर्थी और शाम को बेटी के तिलक की रस्म हुई।  45 साल के सुरेश सोनार दिल्ली में नौकरीपैशा थे। उनकी बेटी की शादी 21 नवंबर को है। तिलक की खरीददारी के लिए बड़े नोट बदलवाने मंगलवार को स्टेट बैंक की शाखा मे पहुंचे। पूरे दिन लाइन में खड़ा होने के बाद भी उनका पैसा एक्सचेंज नहीं हुआ। देर शाम वह घर पहुंचे।  इसी चिंता में रात 12 बजे हार्ट अटैक से मौत हो गई। उनके परिवार में पत्नी, दो बेटियां और दो बेटे हैं।
आगरा बैंक के बाहर रात भर हजारों लोग खड़े हुए हैं। सैकड़ों महिला-पुरुष लाइन में लगकर बैठे हैं। कोई चादर लिए है, तो कोई रजाई और कंबल के साथ पहुंचा है। 50 से 80 किमी दूर से लोग यहां बैंक से रुपए लेने आए हैं। पूरा दिन भूखे बीत गया और रुपया खत्म होने से सैकड़ों गांव वाले इंतजार ही करते रह गए।