RSS नेता की कंपनी ने नोटबंदी के बाद जमा किए 17 करोड,घर-दफ्तर पर छापे

16
SHARE

आयकर विभाग दिल्ली स्थित आरएसएस के एक बडे नेता की परिधान कंपनी की नोटबंदी के बाद बंद नोट जमा करने को लेकर जांच कर रहा है। इस कंपनी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 500 और 1000 रूपये के पुराने नोटों को बंद करने की घोषणा के बाद 17 करोड रूपये नकद जमा कराने का आरोप है। पीएम मोदी ने आठ नवंबर 2016 को रात आठ बजे उसी दिन रात 12 बजे से नोटबंदी लागू हो जाने की घोषणा की थी।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार आरएसएस नेता की कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर की जांच की जा रहा है। अहूजासंस शॉलवाले प्राइवेट लिमिटेड के मालिक कुलभूषण अहूजा की है जो आरएसएस के दिल्ली प्रांत संघचालक (दिल्ली प्रमुख) हैं। कंपनी के रिकॉर्ड के अनुसार कंपनी में तीन अन्य डायरेक्टर हैं, उनके बेटे भुवन और करन तथा बेटी निधि।

सूत्रों के अनुसार कंपनी ने पिछले महीने कथित तौर पर छह करोड रूपये प्रधान मंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई) के तहत स्वैच्छिक घोषणा स्कीम के तहत जमा किए। केंद्र सरकार ने दिसंबर में उन लोगों के लिए इस योजना की घोषणा की थी जिनके पास अघोषित नकद रूपये थे। अहूजासंस की कंपनी पशमीना शॉल की बडी विक्रेता है। कंपनी के शोरूम करोल बाग, खान मार्केट और साउथ एक्सटेंशन में हैं।