चेन्नई के तट से टकराया चक्रवाती तूफान ‘वरदा’, कई राज्यों में हाई अलर्ट

12
SHARE

चक्रवाती तूफान ‘वरदा’ तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों में पहुंच गया है। आपदा की आशंका को देखते हुए दोनों राज्यों के तटीय इलाकों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और लोगों को निकालकर कर सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया जा रहा है।आंध्र प्रदेश में 6 टीम, तमिलनाडु में 7 टीमें हर स्थिति से निपटने के लिए तैनात हैं। लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया जा रहा है’वरदा’ तूफान के चलते चेन्नई में तेज हवाओं को साथ भारी बारिश हो रही है। सड़कों पर पेड़ उखड़े हुए पड़ें हैं जिसके चलते पूरे शहर में जाम लगा हुआ है|

हमें अगले 24 से 26 घंटे तक सतर्क और सावधान रहना होगा। भारत सरकार, राज्य सरकार और सभी संबंधित एजेंसियों को अलर्ट रहने को कहा गया है: हर्षवर्धन, केद्रीय मंत्री

खाद्य पदार्थ और अन्य उपयोगी वस्तुएं पर्याप्त मात्रा में तैयार हैं: चंद्रबाबु नायडु, आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री

एयरपोर्ट की सभी सेवाएं 3 बजे तक के लिए बंद की गई। विशाखापट्टनम में गोताखोरों की 22 टीमें तैयार हैं। गोताखोरों की 10 टीमें नौसेना के दो जहाजों पर तैयार हैं।चक्रवात वरदा इस समय चेन्नई से 50 किलोमीटर दूर है।आंध्र सरकार ने मछुआरों आगले 36 घंटों तक समुद्र में न जाने की सलाह दी है। आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में NDRF की 19 टीमों को तैनात किया गया है आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबु नायडु टेलीकांफ्रेसिंग के जरिए राज्य के उच्च अधिकारियों से स्थिति का जायजा ले रहें हैं।तमिलनाडु सरकार ने लोगों से कहा है कि 1 से 4 बजे के बीच अपने घरों से बाहर न निकलें।चेन्नई की सड़कों पर वरदा चक्रवात वरदा से उखड़े हुए पेड़  सेना की सात टुकड़ियों को किसी भी आपात स्थित में राहत व बचाव कार्य के लिए तैनात रहने को कहा गया है।तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम वरदा चक्रवात के मद्देनजर सरकारी तैयारियों का जायजा लेते हुए।जानकारी के अनुसार चेन्नई के तट से ‘वरदा तूफान’ अब मात्र 50 किमी दूर रह गया हैतूफान से प्रभावित इलाकों से अब तक 7,357 लोगों कों 54 राहत केद्रों में पहुंचाया गया

नौसेन के दो जहाज शिवालिक और कदमत किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए तैनात हैं वरदा तूफान की वजह से तामिलनाडु में बड़ी संख्या में पेड़ गिर गए हैं। 1.30 बजे तक वरदा तट को छू सकता हैः नौसेना

वरदा तूफान फिलहाल चेन्नई से 61 किलोमीटर की दूरी पर है। कुछ ही घंटों में इसके तट पर पहुंचने की आशंका है।वरदा तूफान के चलते 1 मीटर उंची समुद्री लहरें उठेंगी। लोगों को सरकार द्वारा दी जाने वाली निर्देशों को पालन करने और सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया है|

तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के उत्तरी इलाको में वरदा तूफान के चलते मूसलाधार बारिश और तेज हवाएं का सामना करना पड़ सकता है वरदा तूफान फिलहाल बंगाल की खाड़ी से 87 किलोमीटर पूर्व में है और पश्चिम की तरफ बढ़ रहा है: एस बालाचंद्रन, निदेशक, क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केंद्र

मीनांबकम में मूसलाधार बारिश के साथ तेज हवाएं चल रहीं हैं।चेन्नई एयरपोर्ट के ऊपर चक्रवाती मौसम को ध्यान में रखते हुए 6 उड़ाने हुईं रद्द। कई उड़ानों का रास्ता बदला गया। परमाणु प्लांट कलपक्कम को वरदा तूफान से बचाने के लिए हरसंभव सावधानी बरती जा रही है। वरदा के प्रभाव के कारण फिलहाल चेन्नै के कई इलाकों में बारिश शुरू हो गई है|