CWC की बैठक में बोले राहुल गांधी, सत्ता के नशे में चूर मोदी सरकार

5
SHARE

कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक की अध्यक्षता राहुल गांधी कर रहे हैं। दरअसल सोनिया गांधी की सेहत खराब होने की वजह से वो इस अहम बैठक में नहीं पहुंच पाई हैं।

राहुल गांधी ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि मोदी सरकार सत्ता के नशे में चूर है और इस सरकार में लोकतंत्र सबसे काले दौर से गुजर रहा है।

राहुल गांधी ने इस मौके मौजूदा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि टीवी चैनलों पर बैन लगाया जा रहा है और विपक्ष के लोगों को जेल में डाला जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि एनडीए की सरकार में लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है।

वर्किंग कमिटी की इस बैठक में कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह, ऐके एंटनी, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, मलिका अर्जुन खड़गे, अंबिका सोनी, बीके हरिप्रसाद और ग़ुलाम नबी आजाद समेत लगभग 21 लोग हिस्सा ले रहे हैं।

राहुल को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने पर नहीं होगा फैसला

सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने पर कोई फैसला नहीं होगा। कांग्रेस आलाकमान के संगठनात्मक चुनाव और आगे टालने की संभावना है, जिसे पहले एक वर्ष की अवधि के लिए इस दिसंबर के अंत तक टाला गया था।

पार्टी के भीतर एक वर्ग का मानना है कि ऐसा उत्तर प्रदेश और पंजाब में विधानसभा चुनाव के बाद ही किया जाना चाहिए। पार्टी सूत्रों ने कहा कि संगठनात्मक चुनाव एक वर्ष से अधिक समय तक टलने की उम्मीद है, क्योंकि चुनाव कराने के लिए बहुत ही कम समय है और पार्टी को अगले वर्ष होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों पर ध्यान केंद्रित करना है।

सीडब्ल्यूसी की बैठक इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि संसद का शीतकालीन सत्र 16 नवंबर से शुरू हो रहा है और कांग्रेस इस बैठक में सत्र के लिए अपनी रणनीति को अंतिम रूप देगी। सूत्रों ने बताया कि बैठक में संगठनात्मक चुनाव और संसद सत्र के लिए एक रणनीति अपनाने के अलावा वर्तमान राजनीतिक स्थिति का जायजा लिया जाएगा।
कांग्रेस संसद सत्र के दौरान भाजपा को घेरने के लिए जिन राजनीतिक मुद्दों को उठाने की योजना बना रही है, उनमें सर्जिकल स्ट्राइक से राजनीतिक लाभ लेना, मध्यप्रदेश में एक ‘मुठभेड़’ में सिमी के आठ सदस्यों के मारे जाने के साथ ही तीन तलाक और समान नागरिक संहिता जैसे विवादास्पद मुद्दे शामिल हो सकते हैं।