500-1000 रुपये के नोट बंद करने के फैसले पर कांग्रेस के पीएम मोदी से तीन सवाल

6
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के 500 और 1000 रुपये को बंद करने के ऐलान के बाद कांग्रेस ने पीएम के इस फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि काले धन की वापसी के लिए जो भी सार्थक कदम सरकार उठाएगी कांग्रेस उसके साथ है. लेकिन इसके साथ ही कांग्रेस ने सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि कहीं मोदी सरकार बिना खास तैयारियों के लोगों को मुसीबत में तो नहीं ढकेल रही है?

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, ”मोदी जी कालाधन को वापस लाने के लिए जो कारगर, सार्थक और सटीक कदम उठाएगी कांग्रेस पार्टी उस पर उनका बगैर किसी शर्त समर्थन करेगी. पीएम मोदी ने आज स्पष्ट तौर पर कहा कि दस से लेकर सौ रुपये तक का नोट साधारण जनमानस प्रयोग करता है. इसके अलावा 500 से 1000 रुपये के नोट से कालाधन एकत्रित करने वाले धारकों को मदद मिलती है. इसी लिए सरकार ने 500 और 1000 रुपये का नोट बंद करने का निर्णय किया है.”

सुरजेवाला ने कहा, ”इस फैसले के बाद तीन बातें सामने आतीं हैं जिन पर मोदी सरकार का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं. पहली बात आज कई किसानों की फसल कट चुकी है और कई किसान नई फसल की बुवाई को तैयार हैं. ऐसे 500 और 1000 का नोट वापस लेकर, बगैर किसी व्यवस्था के 30 दिसंबर तक क्या छोटे व्यापारी, इस देश की ग्रहणियों, इस देश के छोटे किसान क्या उन्हें मोदी सरकार एक मुसीबत में नहीं ढकेल रही.”

सुरजेवाला ने दूसरा सवाल उठाते हुए कहा, ”आज देश में त्योहारों और शादियों का सीजन है. कोई बेटी के कपड़ा लेने जा रहा है तो अन्य जरूरी सामान खरीदने जा रहा है. कोई त्योहार की तैयारी में है ऐसे में मात्र चार हजार रुपये निकालने का निर्णय के फैसले शादी वालो घरों के लिए मुसीबत बन जाएंगे.

तीसरा सवाल ये है कि ”मोदी जी दस से लेकर सौ रुपये तक का नोट साधारण जनमानस प्रयोग करते हैं. एक ओर सरकार 1000 के नोट बंद कर रही है तो दूसरी ओर 2000 के नोट जारी कर रही है इससे क्या काला धन नहीं पनपेगा.”