अयोध्या में CM योगी की दिवाली, दो लाख दीयों की रोशनी में हेलिकॉप्टर से आएंगे राम-सीता और लक्ष्मण

49
SHARE

भगवान राम, पत्नी सीता के साथ 14 वर्ष के वनवास और लंका विजय के बाद जब अयोध्या आए तो अयोध्यावासियों ने खुशियों से अयोध्यानगरी को दीपों से सजा दिया और दीवाली मनाई. आपने ये प्रसंग या तो पढ़ा या सुना होगा, लेकिन अब यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ छोटी दीपावली यानि 18 अक्टूबर को एक बार फिर त्रेता युग के उसी वैभव को अलग तरह से दोहराने जा रहे हैं. इस कार्यक्रम के साक्षी अयोध्यावासियों के साथ-साथ विदेशी सैलानी भी होंगे.

18 अक्टूबर यानि छोटी दीपावली के दिन अयोध्या का मुख्य आकर्षण होगी. राम से जुड़े अलग-अलग काण्ड पर आधारित झाकियां जो अपने भव्य स्वरूप में दिखाई देगी. ट्रकों पर बने मंच पर शोभायमान कुल 11 झाकियां होंगी, जिसके सामने लोक कलाकार संबंधित काण्ड से जुड़ी नृत्य नाटिका प्रस्तुत कर रहे होंगे.

यह शोभायात्रा अयोध्या स्थित साकेत महाविद्यालय से दोपहर बाद 2 बजे निकलकर अयोध्या की सड़कों से गुजरती हुई लगभग 3 किलोमीटर के सफर के बाद शाम 4 बजे रामकथा पार्क पहुंचेगी. रास्ते में लोग इन शोभायात्राओं पर पुष्प वर्षा कर रहे होंगे और खुशियां मनाते हुए जयकारे लगा रहे होंगे.

इसके पीछे न सिर्फ अयोध्या के साधू संत दिखाई देंगे बल्कि अयोध्यावासी भी झूमते, गाते और इठलाते हुए खुशियाँ मनाते दिखाई देंगे. रामकथा पार्क में यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और राज्यपाल रामनाईक ही नहीं बल्कि प्रदेश और केंद्र के कई मंत्री भी मौजूद रहेंगे, जो राम-सीता लक्ष्मण का स्वागत और पूजन अर्चन करेंगे. यही पर राम दरबार लगेगा और राम का राज्याभिषेक होगा.

रामजन्म से लेकर लवकुश तक को प्रतिबिंबित करने की कोशिश

कार्यक्रम के लिए अयोध्या की सड़कों को ठीक किया जा रहा है तो रामदरबार भी बनाया जा रहा है. बढ़ी हुई घासों को काटा जा रहा है और इस कदर सजाया जा रहा है कि त्रेता युग के वैभव को प्रतिबिंबित किया जा सके. कुल 11 झांकियां हैं. इसमें रामजन्म से लेकर लवकुश तक का, राज्याभिषेक तक कुल 11 झाकियां हैं, जो अलग-अलग परिवेश में सजाई जाएंगी.

इन झांकियों में जीवंत कलाकार अभिनय करेंगे, इस पर दिन रात काम चल रहा है जो बुधवार तक पूरा हो जाएगा. इस आयोजन से जुड़े आचार्य सत्येन्द्र दास ( मुख्य पुजारी रामलला ) कहते हैं कि जिस समय भगवान राम अयोध्या आए थे, तो उनके ऊपर पुष्प वर्षा हुई थी. उसी प्रकार से यहां पुष्प वर्षा होगी.

दास के मुताबिक ऐसा मालूम होगा कि जैसे साक्षात राम लक्ष्मण और सीता लंका विजय करके अयोध्या आ गए हैं. पूरे अयोध्या के लोग उनके स्वागत के लिए चलेंगे. ऐसा माहौल होगा जैसे भगवान त्रेता युग में आए थे और आने के बाद जो स्वरूप और जो स्थिति रही वही दीपावली के एक दिन पहले छोटी दीपावली के दिन दृश्य दिखाई देगा.

रामकथा पार्क के बाद 5.45 बजे योगी सीधे सरयू तट पर जाएंगे, जहां सबसे पहले सरयू का 15 मिनट तक पूजन होगा. इसके बाद 5100 बत्ती की महाआरती होगी. इसके लिए सरयू तट पर स्टेज बनाया जा रहा है, जिस पर योगी आदित्य नाथ मौजूद रहेंगे. इस दौरान 11 पुजारी वैदिक मंत्रोच्चार करेंगे.

इसके बाद मुख्यमंत्री राम की पैड़ी पर जाएंगे. वहां दीपोत्सव का कार्यक्रम है. 1 लाख 71 हजार दीपों को प्रज्वलित किया जाएगा और आरती में ‘ॐ जय सरयू माता’ का जाप लगातार होता रहेगा. इसके साथ ही 11 वैदिक ब्राह्मण मंत्रोचार करते रहेंगे, जब तक आरती चलती रहेगी.