CM ने विधायकों का कराया सच से सामना

25
SHARE
सीएम अखिलेश यादव ने पहली बार जीते विधायकों से अपने सरकारी आवास पर मुलाकात की। विधायकों से उनकी इन्टरनल रिपोर्ट को लेकर बातचीत की गई। सीएम से मिलने वाले विधायकों की संख्या लगभग 98 बताई गई है।22 दिसंबर को विधानसभा सत्र समाप्त हुआ है। ऐसे में सीएम के बिजी शेड्यूल के चलते विधायकों की उनसे मुलाकात नहीं हो सकी थी।ऐसे में शुक्रवार को 2012 विधानसभा चुनाव में पहली बार जीते विधायकों को सीएम आवास पर आने का बुलावा भेज दिया गया।शाम 5 बजे शुरू हुई मीटिंग में विधायक आनन-फानन में पहुंचे। सूत्रों के मुताबिक, कुल 98 विधायक पहुंचे थे|
सीएम के सामने टिकट का भी मुद्दा उठा, क्योंकि पिछले दिनों प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने करीब 40 मौजूदा विधायकों का टिकट काटने का संकेत दिया था।ऐसे में साढ़े 4 साल सीएम के नेतृत्व में काम करने वाले विधायक डरे हैं कि पारवारिक विवाद की गाज कहीं उन पर ना गिर जाए।हालांकि, एक विधायक ने बताया कि सीएम ने सभी को आश्वासन दिया है कि ऐसा कुछ भी नहीं होगा। जिसका भी परफॉर्मेंस अच्छा है उनका टिकट नहीं काटा जाएगा|
यह पहले ही क्लियर हो चूका है कि सपा के आन्तरिक सर्वे में कुछ विधायक और मंत्रियों की छवि क्षेत्र में ठीक नहीं है।सूत्रों की माने तो सीएम ने बैठक में चुनाव जीतने का दंभ भरने वाले विधायकों को पार्टी की इन्टरनल रिपोर्ट बताई तो उनके होश उड़ गए।सीएम ने कुछ विधायकों से कहा, आप तो जीतने की बात कह रहे हो, लेकिन रिपोर्ट कुछ अलग ही बात कह रही है।ऐसे में अच्छा यह होगा कि आप अपने क्षेत्र में काम करे।बता दें कि सीएम पहले भी कह चुके हैं कि जनता में सरकार की नहीं, बल्कि विधायकों की छवि खराब है|
विधायकों ने मीटिंग में सीएम से अपने क्षेत्र में चुनाव प्रचार करने का भी रिक्वेस्ट किया है।इस मामले पर सीएम ने कहा कि सबसे पहले आप क्षेत्र में सपा सरकार की योजनाओं का प्रचार प्रसार करिए।हालांकि, उन्होंने प्रदेश भर में विकास रथ यात्रा निकालने का आश्वासन भी दिया।वरिष्‍ठ पत्रकार रतन मणि लाल कहते हैं कि यह एक्सरसाइज हर चुनाव से पहले होती है।दरअसल, पहली बार चुनाव जीत कर आने वालों में कुछ ख़ास होता है जिसे पार्टी अगले चुनाव में भी भुनाना चाहती है।साथ ही जिनका टिकट काटना होता है वह भी अंदाजा लगा ही लेते हैं। ऐसे में वह भी मेंटली प्रिपेयर हो जाते हैं।यही वजह है कि सीएम ने चुनाव में जाने से पहले पहली बार जीते विधायकों को बता दिया है की उनमे कितना दम ख़म है|