पादरी के कृत्यों से नाराज ईसाई समुदाय के लोगों की बगावत शुरु

91
SHARE

सुल्तानपुर. सिविल लाइन्स स्थित क्राइस्ट चर्च, पादरी के कृत्यों के चलते सवालों के घेरे में आ गया है।अपने ही धर्मानुयायियों के आरोपों से बिंधे चर्च के पादरी पर कार्यवाही की तलवार लटक रही है। वहीं बगावत पर उतर आये ईसाई समुदाय के लोगों ने पुलिस कप्तान और बीजेपी विधायक को ज्ञापन देकर प्रकरण पर प्रभावी कदम उठाने की मांग की है।
मामला कुछ यूँ है
ब्रिटिश हुक़ूमत के दौर के शहर के वर्षों पुराने प्रोटेस्टेन्ट मत के क्राइस्ट चर्च परिसर में दर्जनों इसाई परिवार वर्षों से रहते हैं।
चर्च की देख-रेख करती है इलाहाबाद की इसाई संस्था डिओसिस।
जिसके प्रमुख बिशप बलदेव, जिन्होंने कुछ वर्षों पूर्व यहां के चर्च में वाराणसी में विवादित रहे पादरी अखिलेश माथुर को नियुक्त कर दिया।
जबसे उन्होंने यहां की चर्च की जिम्मेदारी संभाली तभी से सुल्तानपुर के चर्च में विवाद शुरू हो गया।
खुद परिसर के बाशिंदे ही अपने धर्मगुरु पर गैर हिंदुओं को लालच देकर धर्मांतरण कराने का आरोप मढ़ने लगे।
कई बार इसकी शिकायत भी बिशप से की लेकिन आरोप है कि उन्हें अनसुना किया जाता रहा।

रविवार को हुआ था बलवा, दर्ज हुआ है मुकदमा
गत रविवार प्रकरण ने तूल तब पकड़ लिया जब स्थानीय मूल ईसाइयों को अनदेखा कर के और गैर ईसाइयों को कमेटी का मेंबर व् पदाधिकारी बनाने के लिए पादरी माथुर चुनाव कराने लगे।
चर्च परिसर निवासी ईसाइयों ने चुनाव में भाग लेने का अनुरोध पादरी से किया तो वे और उनका परिवार हमलावर हो उठा।
विरोध करने वालों को पीटना शुरू कर दिया।
जिसमें रश्मि जोसफ को गम्भीर चोट आई।
मामले में पुलिस ने पादरी माथुर और उनके बेटे, बेटियों और पत्नी के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया।
लेकिन धार्मिक संस्था से प्रकरण के जुड़ाव को देखते हुए निष्क्रिय रही और सख्त कार्यवाई से बचने लगी।

मामला ऊपर गया तो बनाया गया सुलह का दबाव
उधर जब मामला चर्च के इलाहाबाद स्थित मुख्यालय के बिशप बलदेव के संज्ञान में आया तो उन्होंने अपने ही समुदाय के लोगों पर पादरी से सुलह कर लेने का दबाव बनाने लगे।
इस पर नाराज ईसाईयों ने बिशप को अल्टीमेटम दे डाला है कि पहले पादरी को चर्च से हटाओ अन्यथा भूख हड़ताल शुरू कर दी जायेगी।

एसपी और एमएलए से की गई शिकायत
इस क्रम में गुरुवार को लालन मार्टिन, अभिषेक डीन, प्रमोद डीन, नेल्सन जोसफ, रश्मि जोसफ, उषा तिवारी व डॉ.ए.सिंह आदि ने एसपी से मुलाक़ात कर चर्च में पादरी द्वारा अनैतिक गतिधियों को संचालित कराने, धर्मांतरण कराने का आरोप मढ़ा।
उन्होंने प्रकरण को गम्भीरता से लेने व कार्यवाही का आश्वासन दिया।
साथ ही ईसाइ समुदाय के लोगों ने बीजेपी विधायक सूर्यभान सिंह से उनके आवास पैर जाकर ज्ञापन दिया और मामले में सकारात्मक सहयोग की मांग की है।

सरकारी कर्मचारी की भूमिका संदिग्ध
चर्च में धर्मांतरण को लेकर इसाई मतावलम्बियों का इशारा एक राजस्व महकमे के कानूनगो की ओर है।जिलाधिकारी को भेजे पत्र में कहा गया है उक्त कर्मी भोले भाले गरीब तबके के लोगों को लालच देकर धर्म परिवर्तन के लिए प्रोत्साहित कर रहा है।