चीन ने कहा हमने बचाया था जहाज इंडियन नेवी ने नहीं

84
SHARE

अदन की खाड़ी में समुद्री डाकुओं के कब्जे में आये जहाज को भारत, चीन और पाकिस्तान के जहाजों ने मिलकर बचाया था मगर चीन का कहना है की पूरे ऑपरेशन को चीन ने अंजाम दिया था।

यह कार्गो शिप ‘ओएस 35’ मलेशिया के केलांग से यमन के अदन बंदरगाह जा रहा था, तभी शनिवार रात को उस पर समुद्री डाकुओं ने धावा बोल दिया. भारतीय युद्धक पोत ओवरसीज़ तैनाती के तहत इस इलाके में मौजूद थे.

लेकिन रविवार रात को चीनी नौसेना द्वारा जारी बयान में भारतीय नौसेना का कतई कोई ज़िक्र नहीं किया गया. चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि ऑपरेशन से “समुद्री डाकुओं के खिलाफ लड़ने के क्षेत्र में चीनी नौसैना की क्षमता का पता चलता है…”

जब उनसे भारतीय नौसेना की भूमिका के बारे में कुछ नहीं कहे जाने पर सवाल किया गया, हुआ चुनयिंग ने कहा कि किसी भी विवरण के लिए चीन के रक्षा मंत्रालय से संपर्क किया जाए.

उन्होंने पत्रकारों को बताया, “हेलीकॉप्टरों की देखरेख में नौसेना की स्पेशल फोर्स के सदस्य जहाज़ पर चढ़े, और 19 (फिलीपीनी नागरिक) क्रू सदस्यों को बचाया… जहाज़ और उसके क्रू सदस्य बिल्कुल सुरक्षित हैं…”

तुवालू के व्यापारिक जहाज पर समुद्री डाकुओं ने अगवा कर लिया था जिसके कारण तीन देशों के युद्धपोत ने मिलकर इस जहाज को बचाया था,आपातकालीन सूचना मिलने के बाद भारत ने बचाव के लिए दो जहाज आईएनएस मुंबई और आईएनएस तरकश रवाना भेजे, यह व्यापारिक जहाज मलेशिया के केलांग से चला था।