मुख्यमंत्री योगी और बिल गेट्स की मुलाकात, चिकित्सा के क्षेत्र में करार

88
SHARE

आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिल गेट्स के साथ मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान प्रदेश को चिकित्सा के क्षेत्र में मजबूत करने को लेकर करार किया गया।

सीएम योगी आदित्यनाथ तथा बिल गेट्स की मौजूदगी में बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन तथा सीएम योगी आदित्यनाथ की कर्मस्थली गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज के बीच करार हुआ। यहां पर जापानी इन्सेफेलाइटिस के साथ एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम के खात्मे के लिए गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में स्थापित रीजनल वायरल रिसर्च इंस्टीट्यूट और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के बीच पार्टनरशिप पर सहमति बनी। इसके साथ ही प्रदेश में फाइलेरिया के उन्मूलन के लिए बिल गेट्स ने तीन ड्रग थेरेपी अनपनाने का सुझाव दिया।

प्रदेश के किसानों की आय दोगुनी करने के दृष्टिगत बिल गेट्स ने मृदा परीक्षण के लिए केमिकल की बजाय स्पेक्ट्रोस्कोपी तकनीक अपनाने का मशविरा दिया। फाउंडेशन की ओर से किसानों को उन्नत किस्म के बीज मुहैया कराने और खेती की उन्नत तकनीक सिखाने का भरोसा दिलाया गया।

बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन की और से प्रदेश में स्वास्थ्य, कृषि, नगरीय क्षेत्र में कूड़ा प्रबन्धन के क्षेत्रों में सहयोग करने पर चर्चा हुई। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और उत्तर प्रदेश सरकार के बीच 2012 में हस्ताक्षरित हुए मेमोरेंडम ऑफ कोऑपरेशन के नवीनीकरण और उसका दायरा बढ़ाने पर चर्चा हुई।

बिल गेट्स ने अपनी पत्नी मेलिंडा तथा कंपनी के शीर्ष अधिकारियों के साथ आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उनके कार्यालय लाल बहादुर शास्त्री भवन (एनेक्सी) में मुलाकात की। बिल गेट्स फाउंडेशन के कामों को लेकर इनके बीच चर्चा हुई। बैठक में प्रदेश के कई विभागों के प्रमुख सचिव भी सूबे के मुख्य सचिव राजीव कुमार के साथ मौजूद थे।

प्रमुख सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बिल गेट्स के बीच वेक्टर बॉर्न, वाटर बॉर्न डिसीज के बारे में बात हुई। इसके अलावा पेयजल के बारे में भी चर्चा हुई। पूर्वांचल में इंसेफलाइटिस के बारे में बात हुई है, जिससे हाल ही में उनके पूर्व संसदीय क्षेत्र गोरखपुर में 60 बच्चों की मौत हो गयी थी। इसके अलावा एक्यूट इंसेफलाइटिस के लिए खास बात हुई है जो सेनिटेशन और पीने के पानी से जुड़ा है।

उन्होंने आगे बताया कि, एक्यूट इंसेफलाइटिस के रोक थाम पर काम करने के लिए एमओयू साइन किया गया है। प्रदेश में कुपोषण की स्थिति पर भी चर्चा हुई है। किसानों की आय को दोगुना करने के लिए चर्चा हुई है। नई तकनीकी के साथ आय बढ़ाने का काम करेंगे। इसके साथ ही सोईल टेस्टिंग(मृदा परीक्षण) और बीजों को लेकर भी बात की गयी। बैठक में बताया गया कि, फाउंडेशन फाइलेरिया पर काम कर रहा है। फाइलेरिया को पूरी तरह से खत्म करने के लिए आज चर्चा हुई है।