हमारे उत्तर प्रदेश की खराब तस्वीरें बाहर जाती हैं, हमें इसको बदलने की जरुरत

40
SHARE

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 101 योजना का शिलान्यास और लोकार्पण किया।

शिलान्यास तथा लोकार्पण के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अभी तक प्राविधिक शिक्षा का क्षेत्र उपेक्षित था। हमने इसकी ओर ध्यान दिया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को अगर नई पहचान बनानी है तो इसके लिए हमें टीम स्पिरिट और टेक्नोलॉजी से काम करना होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश आजादी के समय देश के विकसित राज्यों में एक था। यहां के लोगों प्रतिव्यक्ति आय अधिक थी। सीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश सीमित संशाधन में अपनी पहचान बनाये थे, लेकिन आज उत्तर प्रदेश पिछड़े राज्यो में आ गया है। देश को दिशा देने वाला राज्य जब बीमार हो जाये तो भारत कैसे विकास करेगा। इसी कारण अब उत्तर प्रदेश को अपनी पहचान बनाने की आवश्यकता है। जिसके बाद ही हम उत्तर प्रदेश को एक बार फिर पुराना मुकाम दिला सकेंगे।

उन्होंने कहा कि हमारे उत्तर प्रदेश की खराब तस्वीरें बाहर जाती हैं। हमें इसको बदलने की जरुरत है। तकनीक के जरिये हम उत्तर प्रदेश की पहचान को नया रूप दे सकते हैं। इसके हमें सभी का सहयोग चाहिए और इसके जरिये हम यूपी को बेहतर बनाएंगे। हर व्यक्ति अविष्कार कर सकता है, एक नयी कोशिश कर सकता है। दृढ इच्छाशक्ति के जरिये यूपी को बेहतर राज्य बना सकते हैं। कूड़ा प्रबंधन न होने के कारण हमारी पहचान गंदगी की होती है। ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि इनसे ऊर्जा बनाने का काम हो।

नमामि गंगे के तहत हम एसटीपी लगा रहे है लेकिन उसके लिए रनिंग बजट की आवश्यकता है। हम अपनी तकनीक को सस्ता बनाये, इसका प्रयास करना होगा। तकनीक आसान और सस्ती हो इसका प्रयास करना होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बड़ी मात्रा में बीमारियां आ रही है जिनका कोई उपचार नहीं है। स्वाइन फ्लू इस समय तेजी से फैल रहा है। हमको इन सभी के निपटना है। आस-पास के सभी स्थान को साफ रखना है, जिसके कारण हम बीमारी से बच सकें।