कठुआ और उन्नाव के दोषियों को फांसी देने के लिए कैंडल मार्च

10
SHARE

भीम टाइगर सेना, सामाजिक संगठनों और स्वयंसेवियों ने कठुआ, उन्नाव, अमेठी, सासाराम में घटना के अभियुक्तों को फांसी की मांग को लेकर कैंडिल मार्च, जुलूस, नारेबाजी, धरना और प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को संबोधित मांग प्रशासन को सौंपी। इन संगठनों ने बच्चियों के साथ अमानवीय घटनाओं पर न्यायालय तीब्र गति से सुनवाई कर अभियुक्तों को सजा देने के लिए आवाज बुलंद की।

देश में इस तरह की घटनाओं से बन रहे दहशत के महौल को देखते सरकार से ऐसी कृत्यों को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने की मांग की गई। उनके हाथों में पीडि़तों को न्याय दिलाने की मांग को लेकर तख्तियां भी थी।

छह सूत्रीय मांगे-

-आरोपियों को फांसी दी जाए
-यौन हिंसा पर अंकुश लगे
-फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई
-पुलिस जवाबदेही तय हो
-सख्त कानून बनाए जाय
-पीडि़त को समुचित मुआवजा

भीम टाइगर सेना के नेता राजू गौतम ने कहा कि घटनाओं में कितना बड़ा व्यक्ति हो उसे खिलाफ सख्त कार्रवाई तत्काल किया जाय। धरने के पश्चात पदाधिकारियों ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। अंबेडकरनगर के सामाजिक कार्यकर्ता मुराद अली के नेतृत्व में कैंडल मार्च निकालकर कठुआ व उन्नाव कांड के आरोपियों पर प्रभावी कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारीआरोपी देश छोड़ो आदि का नारा लगा रहे थे। शहजादपुर लोहिया मूर्ति से पटेल नगर तिराहे तक हाथों में मोमबत्ती, बैनर व तख्ती लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को संबोधित छह सूत्रीय मांग-पत्र एसडीएम को सौंपा।