१४ सीटों के उपचुनाव के नतीजे आज, पहली जीत शिवसेना की, बंगाल में टीएमसी , एमपी में कांग्रेस , त्रिपुरा में सी.पी.एम. आगे

12
SHARE
नोटंबदी के बाद पिछले हफ्ते देश के किसी हिस्से में पहली बार वोट डाले गए थे। 7 राज्यों की 14 सीटों पर उपचुनाव के नतीजे मंगलवार को आ रहे हैं। मध्यप्रदेश के नेपानगर विधानसभा सीट पर कांग्रेस आगे है। तमिलनाडु की तंजावुर विधानसभा सीट के पहले राउंड की काउंटिंग में AIADMK ने DMK पर लीड बना ली है। त्रिपुरा में सीपीएम ने दोनों सीटें जीत ली हैं। महाराष्ट्र के यवतमाल से शिवसेना कैंडिडेट ने MLC की सीट जीत ली है।
कांग्रेस ने पुड्डुचेरी के नल्लीथोप्पे विधानसभा सीट को जीत लिया है।
त्रिपुरा में सीपीएम दोनों सीट बरजाला और खोवाई विधानसभा जीती।
पश्चिम बंगाल में सभी सीटों पर टीएमसी आगे।
यवतमाल में शिवसेना के तानाजी सावंत ने एमएलसी की सीट जीत ली है।
कहां कितनी सीटों पर हुई थी वोटिंग
14 लखीमपुर लोकसभा सीट और बैठलांसो-20 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव।
लखीमपुर में अमिय कुमार हांडिक (सीपीएम), प्रदान बरुआ (बीजेपी), डॉ. हेम हरी प्रसन्न पेगू (कांग्रेस), हेमकांता मिरी (एसयूसीआई-कम्युनिस्ट) और दिलीप मोरान (इंडिपेंडेंट) मैदान में हैं।
– इससे पहले लखीमपुर से सांसद सर्वानंद सोनोवाल थे। उनके असम का सीएम बनने के बाद यह सीट खाली हो गई थी। उधर मानसिंग रोंगपी के 12 जुलाई को कांग्रेस से बीजेपी में शामिल होने के बाद बैठालांसो की सीट खाली हो गई थी।
वेस्ट बंगाल
कूच बिहार और तमलुक लोकसभा सीट और मोंटेश्वर विधानसभा सीट पर वोटिंग हुई थी। इन सीटों पर टीएमसी के अलावा बीजेपी, लेफ्ट फ्रंट और कांग्रेस ने कैंडिडेट उतारे हैं। यहां इलेक्शन कैम्पेन के आखिरी दौर में नोटबंदी का मुद्दा सबसे ज्यादा छाया रहा।
मध्य प्रदेश
शहडोल लोकसभा सीट और नेपानगर विधानसभा सीट पर भी उपचुनाव के लिए वोटिंग हुई थी। दोनों सीटों पर कुल 17 कैंडिडेट अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। दोनों सीटें एसटी कोटे के लिए रिजर्व हैं। शहडोल में करीब 16 लाख और नेपानगर में करीब 2 लाख 30 हजार वोटर अपना कैंडिडेट चुनेंगे। शहडोल से कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री रहे दलबीर सिंह की बेटी हिमाद्री सिंह को टिकट दिया है, वहीं बीजेपी ने आदिवासी नेता ज्ञान सिंह को मैदान में उतारा है। शहडोल सीट बीजेपी सांसद दलपत सिंह परस्ते की मौत के बाद खाली हुई थी। उधर, नेपानगर में कांग्रेस ने फिर आदिवासी नेता अंतर सिंह बारडे पर भरोसा जताया है। बीजेपी ने दिवंगत विधायक राजेंद्र श्यामलाल दादू की बेटी मंजू दादू को टिकट दिया है।
तमिलनाडु
तंजावुर, अरावक्कूरिची और तिरुपर्रानकुंदरम विधानसभा सीटों पर वोटिंग हुई थी।अरावक्कूरिची में एआईएडीएमके के वी. सेंथिल बालाजी और डीएमके के के.सी. पलानिसामी को टिकट दिया गया है। तंजावुर में डीएमके से अंजुघम बूपथी और एआईएडीएमके से एम. रंगास्वामी कैंडिडेट हैं। तिरुपर्रानकुंदरम सीट पर एआईएडीएमके से ए.के. बोस अपनी किस्मत आजमा रहे हैं तो डीएमके से पी. सर्वाननम कैंडिडेट हैं।
त्रिपुरा
त्रिपुरा में बरजाला और खोवाई विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए वोटिंग हुई थी दोनों सीटों पर बहुकोंणीय मुकाबला है। दोनों सीटों पर सीपीएम, कांग्रेस, टीएमसी के कुल 10 कैंडिडेट चुनाव मैदान में हैं। खोवाई सीट पर सीपीएम का कब्जा रहा है, जबकि बरजाला सीट पर मौजूदा विधायक कांग्रेस का है। हालांकि, इस उपचुनाव में कांग्रेस और सीपीएम को बीजेपी, टीएमसी से कड़ी चुनौती मिल रही है। इससे पहले के चुनावों में कांग्रेस और सीपीएम के बीच सीधा मुकाबला था। बरजाला सीट कांग्रेस के विधायक जितेंद्र सरकार के इस्तीफा देने के बाद खाली हुई थी। खोवाई सीट सीपीएम के नेता समीर देब की मौत के बाद खाली हुई थी।
अरुणाचल प्रदेश
यहां की ह्यूलांग विधानसभा सीट पर दो कैंडिडेट के बीच ही मुकाबला है। दोनों ही महिलाएं हैं। नॉर्थ डेमोक्रेटिक अलायंस की ओर से बीजेपी के टिकट पर दसांगलू पुल चुनाव लड़ी।दसांगलू पुल कलिखो पुल की तीन पत्नियों में से सबसे छोटी हैं। पूर्व सीएम कलिखो पुल की इसी साल अगस्त में संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। दसांगलू के सामने इंडिपेंडेंट कैंडिडेट योंपी क्री हैं।
पुड्डुचेरी
चार राज्यों के अलावा पुड्डुचेरी के नल्लीथोप्पे विधानसभा सीट पर भी शनिवार को उपचुनाव हुआ।