बुंदेलखंड आपदा के समय केंद्र ने मदद नहीं की: अखिलेश

11
SHARE

मुख्यमंत्री शुक्रवार को लखनऊ में आईएएस वीक के मौके पर वरिष्ठ अधिकारियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड आपदा के समय केंद्र ने मदद नहीं की। इसके बावजूद मेरे आफिस के अधिकारियों और बुन्देलखंड में उस समय तैनात अधिकारियों ने कड़ी मेहनत की। अच्छा काम किया। राज्य सरकार ने अपने साधनों से मदद की। लोगो को राशन के पैकेट बंटवाए गए।

मुख्यमंत्री ने बसपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पुरानी सरकार में एम्बुलेंस खड़ी-खड़ी बेकार हो रही थी। मुख्यमंत्री ने सामने बैठे आईएएस संजय अग्रवाल की ओर इशारा किया। बोले-उस समय के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य संजय अग्रवाल अच्छी तरह से जानते हैं। हमने 108 एम्बुलेंस शुरू कराई। उसका नाम समाजवादी रखने पर केंद्र सरकार नाराज हो गई। कहा समाजवादी नाम हटाओ नहीं तो मदद बंद कर देंगे। हमने कहा कि समाजवादी शब्द संविधान में है। हम नहीं हटाएंगे। केंद्र ने मदद बंद कर दी लेकिन हमने अपने बल पर सेवा चालू रखी। हमारी सरकार ने खूब काम किया है|

मुख्यमंत्री ने विकास के कामों को तेजी से करने के लिए आईएएस अधिकारियों की तारीफ की। बोले-रिजल्ट देने वाले अधिकारी ही मेरे खास हैं। सीएम ने प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल की खुलकर प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके बारे में लोग कहते थे कि वो दूसरी सरकार के खास हैं लेकिन लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे रिकॉर्ड टाइम में पूरा करके उन्होंने जो रिजल्ट दिया वो तारीफ़ के काबिल है। यह बात अलग है कि इतनी मेहनत करने के बावजूद उद्घाटन से एक दिन पहले उनके साथ दुखद हादसा हो गया|

मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव रहे और मौजूदा सलाहकार आलोक रंजन की तारीफ करते हुए कहा कि लखऩऊ मेट्रो चल गई। उन्होंने इतनी मेहनत की और सभी काम बिना किसी अड़चन के समय पर पूरे कराए। ये बड़ी उपलब्धि है। कुछ ऑफीसर ऐसे भी है जो धार्मिक तेवर के हैं। मिलने पर रामायण-महाभारत का ज्ञान बता देंगे लेकिन फिर भी रिजल्ट देते हैं। इसके लिए उन्होंने प्रमुख सचिव आवास सदाकांत का नाम लिया। लखनऊ मेट्रो के लिए उन्होंने पंधारी यादव सहित पूरी टीम को बधाई दी|