यह क्या बोल गए बसपा प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा, क्या सपा-बसपा गठबंधन नहीं होगा?

10
SHARE

इटावा। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती आगामी लोकसभा चुनावों के लिए प्रदेश में गठबंधन की कोशिशों में लगे हैं, लेकिन इस बीच बहुजन समाज पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा का एक बयान आया है जो महागठबंधन के लिए अच्छा नहीं है। इससे यह आशंका भी जन्म ले रही है कि क्या मायावती अब गठबंधन के पक्ष में नहीं हैं?

इटावा के नुमाइश पंडाल में इटावा-औरैया जिलों की पार्टी समीक्षा बैठक के बाद आरएस कुशवाहा ने दावा किया कि आगामी लोकसभा चुनावों के बाद केंद्र में सत्ता की चाबी बसपा के पास होगी। यहां तक तो ठीक था लेकिन इसके बाद कुशवाहा ने दावा किया कि पार्टी पूरे देश में और उत्तर प्रदेश में 50 से अधिक सीटों पर जीत हासिल करेगी और मायावती देश की प्रधानमंत्री बनेंगी।

बसपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए बसपा पूरी तरह से तैयार है और बसपा के बिना केंद्र में कोई सरकार नहीं बना सकेगा। उनका कहना था कि देश की जनता भाजपा से आजिज आ चुकी है, जुमलेबाजों की चाल को आम जनता पहचान चुकी है। किसानों की कर्जमाफी एक मजाक बन चुकी है और पूरे साढ़े चार साल में केंद्र की भाजपा सरकार ने कोई काम नहीं किया।

आरएस कुशवाहा की इन बातों से तो यही लगता है कि आगामी लोकसभा चुनावों के लिए बसपा अकेले चलने की सोच रही है क्योंकि कुशवाहा 50 से अधिक सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं। 50 सीटें जीतने के दावे के बाद तो बाकी सिर्फ 30 सीटें रह जाएंगी और इतनी सीटों पर तो सपा और कांग्रेस किसी कीमत पर तैयार नहीं होंगे। बहरहाल देखना होगा कि इस मामले पर बसपा प्रमुख मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव की तरफ से क्या प्रतिक्रिया आती है।