बसपा में 34-35 वर्षों की कुर्बानी का सिला दिया गया है, नसीमुद्दीन सिद्दीकी

21
SHARE

लखनऊ में आयोजित एक प्रेस कॉन्फेंस में बहुजन समाज पार्टी के महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा ने बताया की बहुजन समाज पार्टी के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय सचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी और उनके बेटे अफजल को पार्टी से बाहर निकाल दिया गया है। सिद्दीकी पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल थे जिसके चलते यह कदम उठाया गया है।

मिश्रा ने कहा कि सिद्दीकी ने कई स्लाटर हाउस में साझेदारी की है साथ ही उन्होंने सिद्दीकी पर बेनामी संपत्ति होने का भी आरोप लगाया। सिद्दीकी ने युपी चुनाव के दौरान पैसे भी लिए जिसके चलते पार्टी को नुकसान उठाना पड़ा।

पार्टी से निकाले जाने पर नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने मीडिया में तीन पन्ने का प्रेस नोट जारी करके कहा, मैं अपने निजी काम से लखनऊ से बाहर आया हूं। मुझे मेरे परिवार के लोगों और शुभचिंतकों से पता चला कि बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष के आदेशों और निर्देशों पर पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने मुझे और मेरे बेटे अफजल सिद्दीकी को पार्टी से निकाल दिया है।

उन्होंने लिखा, सच्चाई ये है क‌ि मेरे ऊपर जो भी आरोप लगे हैं वो मनगढ़ंत और निराधार हैं। जबक‌ि ये सारे आरोप जो उन्होंने मुझ पर लगाए हैं, मैं प्रमाण के साथ उन पर साबित कर दूंगा। जहां तक मेरे निकाले जाने का सवाल है तो मैं समझता हूं क‌ि मेरे, मेरे परिवार और मेरे सहयोगियों को बसपा में 34-35 वर्षों की कुर्बानी का सिला दिया गया है।