कालेधन को सफेद करने वालो पर आयकर विभाग आक्रामक

7
SHARE

आयकर विभाग ने चेन्नई में 142 करोड़ रुपये की नकदी और सोना पकड़ा है। इसमें 10 करोड़ रुपये के नए नोट भी शामिल हैं। साथ ही 127 किलो सोना भी आयकर विभाग ने पकड़ा है जो इसमें शामिल है। साथ ही दिल्ली के चांदनी चौक स्थित एक्सिस बैंक की शाखा में आठ नवंबर के बाद कई खातों में भारी मात्रा धनराशि जमा कराने का मामला पकड़ा है। संदेह के घेरे में एक्सिस बैंक की कई शाखाएं आयकर विभाग ने एक्सिस बैंक की इस शाखा में जाकर खातों की पड़ताल की तो आठ नवंबर के बाद कई खातों में भारी धनराशि जमा कराने के मामले का खुलासा हुआ है|

अधिकारियों ने बताया कि विभाग इस बात का पता लगा रहा है कि इतनी अधिक मात्रा में जमा करायी गयी धनराशि का खाताधारकों के पास संतोषजनक जवाब है अथवा नहीं। माना जाता है कि जिन खातों के बारे में पड़ताल की जा रही है उनमें जमा हुई राशि करीब 100 करोड़ रुपये की है। बैंकों के पास डेबिट और क्रेडिट कार्ड को लेकर लगी शिकायतों की झड़ी इससे पहले एक्सिस बैंक की ही कश्मीरी गेट शाखा भी आयकर विभाग की जांच के दायरे में आ चुकी है। आयकर विभाग ने बड़ी नकदी और सोना तमिलनाडु में बालू खनन में लगे एक समूह के आठ ठिकानों पर छापेमार कर बरामद किए हैं। इस समूह के पास पूरे तमिलनाडु में बालू खनन का लाइसेंस है। जिन आठ ठिकानों से यह राशि बरामद की गयी है उसमें छह रिहायशी तथा दो कार्यालय हैं। सरकार ने आठ नवंबर को 500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद करने का ऐलान किया था, उसके बाद इतनी बड़ी मात्रा में पहली बार इतनी नकदी पकड़ी गयी है। छापेमारी की कार्रवाई अभी जारी है। आठ ठिकानों में से अभी चार में सर्वे की प्रक्रिया चल रही है। जिन जगहों से यह अघोषित संपत्ति बरामद की गयी है वे दक्षिण चेन्नई का पॉश इलाका है|

कैशलेस पर मूल समस्या को दूर नहीं कर पा रही सरकार चेन्नई में करोड़ों रुपये बरामद केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने कहा कि इस समूह पर छापेमारी के दौरान 96.38 करोड़ रुपये के पुराने नोट तथा 9.63 करोड़ रुपये के नए नोट बरामद किए। सभी नए नोट 2000 रुपये के थे। इसके अलावा 127 किलो सोना भी मिला जिसकी कीमत 36.29 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। इस तरह आयकर विभाग ने 142 करोड़ रुपये अघोषित संपत्ति पकड़ी है। काले धन का ठेकेदार आयकर विभाग का कहना है कि जांच प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही यह पता चल सकेगा कि आरोपी समूह किस तरीके से कालेधन को सफेद बनाने का प्रयास कर रहा था। इस बीच अधिकारियों ने कहा कि एक ठेकेदार एस रेड्डी ने दावा किया है कि पूरा धन और सोना उसका है। आयकर विभाग फिलहाल उससे तथा कुछ अन्य व्यक्तियों से पूछताछ कर रहा है। यह ठेकेदार राज्य सरकार के साथ काम करता है। एक अधिकारी ने कहा कि हाल के वर्षो में आयकर विभाग ने इतनी बड़ी राशि नकदी तथा सोना नहीं पकड़ा है। सूत्रों ने यह भी कहा कि आयकर विभाग इस पहलू की जांच भी कर रहा है कि इन लोगों के पास इतनी विशाल राशि में नए नोट कैसे आए। सोने की खरीद और बिक्री का भी पूरा हिसाब खंगाला जा रहा है। आयकर विभाग ने कहा कि वह इस मामले का ब्यौरा प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआइ के साथ भी साझा करेगा ताकि इसमें मनी लांडरिंग और भ्रष्टाचार के लिंक की जांच भी की जा सके। उल्लेखनीय है कि इससे पहले आयकर विभाग ने बेंगलूर में छापेमारी के दौरान 5.7 करोड़ रुपये के नए नोट जब्त किए थे|