सिर्फ दो दिन बाकी, क्या फैसला करेंगे सुभासपा और भाजपा?

41
SHARE

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सहयोगी पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने सीट बंटवारे के मसले पर 6 अप्रैल तक इंतजार करने की बात कही है लेकिन भाजपा की तरफ से अभी तक इस पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर को कोई ठोस जवाब नहीं दिया गया है। राजभर जिन पांच सीटों की मांग भाजपा से करते रहे हैं उनमें से चंदौली और मछलीशहर सीटों पर भाजपा ने उम्मीदवार भी उतार दिए हैं, जिससे इस बात को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं कि अब सुभासपा 6 अप्रैल को क्या फैसला लेगी।

इस बीच सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर का नया बयान भी सामने आया है। एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा है कि पांचवें छठे सातवें चरण में हमारी बात बीजेपी से नहीं बनती तो हम फैसले लेने के लिए स्वतंत्र हैं। आखिरी के इन तीनों चरणों में उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल की 41 सीटों पर मतदान होना है।

ओम प्रकाश राजभर के बयान से तो यही लगता है कि अगर भाजपा से उन्हें सीटें नहीं मिलीं तो उनका रास्ता अलग हो सकता है। पिछले महीने तक पीएम मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने और भाजपा उम्मीदवारों को जिताने की बात करने वाले राजभर ने अभी तक अपने सहयोगी के लिए प्रचार भी नहीं शुरू किया है, इससे आशंकाएं बढ़ती जा रही हैं क्या राजभर कड़ा फैसला लेने वाले हैं। भाजपा ने अभी तक उन्हें कोई जवाब नहीं दिया है लेकिन घोसी और जौनपुर जैसी पूर्वांचल की काफी सीटों पर अभी उम्मीदवारों का ऐलान भी नहीं किया है, इसीलिए संभावनाएं अभी भी बरकरार हैं कि शायद सुभासपा को एनडीए से चुनाव लड़ने के लिए सीटें मिल जाएं। इनमें से घोसी सीट को लेकर राजभर का खासा जोर रहा है।

बहरहाल दो दिनों का इंतजार और है, इसके बाद स्थिति साफ हो ही जाएगी, क्योंकि भाजपा भी अब बाकी की सीटों पर उम्मीदवारों के ऐलान में ज्यादा देरी नहीं कर सकती। पांचवें चरण के लिए नामांकन की प्रक्रिया भी 10 अप्रैल से शुरू हो जाएगी।