ये हमारे देश का ढोंग, आतंकवादी खुलेआम घूम सकते हैं, लेकिन रमजान में पानी पीने पर 3 महीने जेल

79
SHARE

पाकिस्तान की पूर्व प्राइम मिनिस्टर बेनजीर भुट्टो की बेटी बख्तावर भुट्टो जरदारी ने पकिस्तान के रमजान कानून के विरोध में बोला है।

बख्तावर ने ट्वीट किया, “ये हमारे देश का ढोंग है। यहां आतंकवादी तो खुलेआम घूम सकते हैं, लेकिन रमजान के दौरान खाने वालों को जेल में डाल दिया जाता है।”
बख्तावर ने ट्वीट किया, “हम रमजान के दौरान अपनी जरूरतों को रोके रखने के काबिल हैं। लेकिन, हर कोई नहीं। स्कूली बच्चे, बुजुर्ग और ऐसे लोग जो बीमारियों से जूझ रहे हैं, क्या हमें उन्हें भी पानी पीने के लिए अरेस्ट करना चाहिए। रोजा रखना इस्लाम के 5 पिलर्स में से एक है। ये एक जरूरी काम है, पर अपने आस-पास हर किसी को जेल में डालना कहां का कानून है? इस्लाम में तो ये नहीं है।”
बख्तावर ने ट्वीट किया, “आतंकवादी होने या फिर मलाला जैसी स्कूली बच्ची को मारने की कोशिश करने पर भी आप टीवी पर मुस्कुराते हुए दिख सकते हैं, लेकिन रमजान में पानी पीने पर आपको 3 महीने जेल में डाल दिया जाता है। हीट वेव्स और पानी की कमी के चलते लोगों की जान जा रही है। हर कोई ऐसा नहीं कर सकता। ये इस्लाम नहीं है।”

1981 में जिया-उल-हक की सरकार के दौरान पाकिस्तान में एहतेराम-ए-रमजान कानून लाया गया था। इसमें रमजान के दौरान खुलेआम खाने या फिर स्मोक करने पर 500 पाकिस्तानी रुपए का जुर्माना लगाया जाता था। पाकिस्तान की संसद ने इस बिल में बदलाव करते हुए जुर्माने की रकम बढ़ा दी है। रमजान के दौरान कानून तोड़ने पर होटल्स और रेस्टोरेंट्स को 25 हजार पाकिस्तानी रुपए का जुर्माना लगेगा। टीवी चैनल्स और थिएटर्स को कानून तोड़ने पर 5 लाख पाकिस्तानी रुपए का जुर्माना लगेगा।