बागपत में खेकड़ा नगर पालिका चेयरमैन के देवर और उसके साथी की चुनावी रंजिश में मौत

41
SHARE

बागपत में खेकड़ा नगर पालिका चेयरमैन के देवर और उनके साथी को दो हमलावरों ने गोलियों से भून दिया। काफी देर बाद तक पुलिस के नहीं पहुंचने पर गुस्सायी भीड़ ने दोनों शव चेयरमैन के घर पर रखकर हंगामा शुरू कर दिया। वारदात के पीछे चुनावी रंजिश की बात सामने आ रही है|

चेयरमैन नीलम धामा के देवर पुष्पेंद्र धामा (40) निवासी मुंडाला पट्टी अपने साथी बाशिद (41) निवासी पट्टी शेखपुरा के साथ रात लगभग आठ बजे घूमते हुए पांडव पुलिया पर पहुंचे। इसी दौरान बाइक पर आए दो हमलावरों में से एक ने पुष्पेंद्र के चेहरे पर पिस्टल सटाकर दो गोली मार दीं। वह खून से लथपथ होकर जमीन पर गिर पड़े। जान बचाकर भाग रहे बाशिद का पीछा कर हमलावरों ने उसपर भी गोलियां बरसा दीं और फरार हो गए। आसपास के लोग एंबुलेंस से पुष्पेंद्र को सीएचसी ले गए, जहां उसने दम तोड़ दिया। बाशिद ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। लोगों ने बताया कि काफी देर बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची तो आक्रोशित भीड़ पुष्पेंद्र के शव को अस्पताल और बाशिद के शव को घटनास्थल से उठाकर चेयरमैन के घर पर ले गयी। पुलिस बल के साथ सीओ श्वेताभ पांडेय, एडीएम डीपी सिंह, एसपी अजय शंकर पांडेय पहुंचे और परिजनों से घटना की जानकारी लेकर दोनों शव पोस्टमार्टम के लिए कब्जे में लेने का प्रयास किया लेकिन भीड़ ने शव नहीं उठाने दिए। देर रात तक भीड़ का हंगामा जारी था|

चुनाव की रंजिश को लेकर 10 नवंबर 2010 में चेयरमैन हरेंद्र धामा की नगर पंचायत कार्यालय में ही हत्या कर दी गई थी। इस घटना में भूपेंद्र धामा, धर्मेंद्र लाला आदि समेत दो दर्जन से ज्यादा केखिलाफ मुकदमा कायम हुआ था। हरेंद्र की हत्या के बाद से ही उनकी पत्नी नीलम धामा खेकड़ा नगर पालिका की चेयरमैन हैं। दो साल पहले कस्बे में ही एक आरोपी भूपेंद्र को मौत के घाट उतार दिया गया था। भूपेंद्र की हत्या में पालिका चेयरमैन के देवर पुष्पेंद्र को नामजद किया गया था|