विराट बने तीसरे सबसे कामयाब कप्तान

11
SHARE
2016 में टीम इंडिया ने 7 बड़े अचीवमेंट्स हासिल किए। एक तरफ जहां विराट कोहली टेस्ट में जीत के मामले में भारतीय इतिहास के तीसरे सबसे कामयाब कप्तान बन गए, वहीं उन्होंने तीनों फॉर्मेट में साल के टॉप रन स्कोरर की पोजिशन भी हासिल कर ली। टेस्ट की बात करें तो सालभर दो ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा की बेहतरीन परफॉर्मेंस रही। 42 साल बाद ICC की बॉलर्स की टेस्ट रैंकिंग में दो टॉप पोजिशन दो भारतीयों अश्विन और जडेजा को मिली|
विराट कोहली की कप्तानी में इस साल भारत ने एक भी टेस्ट नहीं हारा। इसके चलते वे भारत के सबसे ज्यादा कामयाब टेस्ट कप्तानों की लिस्ट में तीसरे नंबर पर आ गए।
कामयाब कप्तानों की लिस्ट में महेंद्र सिंह धोनी 27 जीतों के साथ नंबर वन पर हैं। इनमें से आधे यानी 14 टेस्ट कोहली जितवा चुके हैं। वे 22 मैचों में कप्तानी कर चुके हैं। धोनी के नाम 13 टेस्ट मैच में जीत दर्ज है।सबसे ज्यादा टेस्ट जीतने वाले कप्तानों में सौरव गांगुली 21 जीतों के साथ दूसरे नंबर पर हैं।कोहली ने अब तक 14 टेस्ट जीते हैं। उन्होंने मोहम्मद अजहरुद्दीन की बराबरी कर ली है, जिन्होंने 47 टेस्ट में से 14 में जीत हासिल की है। हालांकि, 14 टेस्ट में जीत दिलाने के लिए अजहर 1990 से 1999 का वक्त लगा था। कोहली ने दो साल में उनकी बराबरी कर ली। इस सक्सेस रेट की वजह से वे अजहर को पीछे छोड़ तीसरे सबसे कामयाब टेस्ट कप्तान बन गए हैं|
दिसंबर 2016 में टीम इंडिया की पोजिशन टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन है।इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान का नंबर है।कोहली इस साल तीनों फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बैट्समैन बन गए हैं। 8 साल बाद भारत से कोई बैट्समैन टॉप स्कोरर बना है। 2008 में सहवाग थे, उनके 2355 रन थे। कोहली ने इस साल 2595 रन बनाए हैं। तीनों फॉर्मेट में उन्होंने 37 मैच खेले हैं। 7 सेन्चुरी लगाई हैं। 13 हाफ सेन्चुरी हैं। हाइएस्ट स्कोर 235 का है।कोहली के बाद दूसरे नंबर पर हैं इंग्लैंड के बल्लेबाज जो रूट। उन्होंने 41 मैच खेलकर 2570 रन बनाए हैं|