एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सरकार को भेजा अपना इस्तीफा

69
SHARE

एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने पद से हटने की इच्छा जताई है. केंद्र सरकार के सबसे बड़े वकील के तौर पर रोहतगी 3 साल का कार्यकाल पूरा कर चुके हैं. कानून मंत्री को लिखी चिट्ठी में उन्होंनेनिजी प्रैक्टिस में लौटने की इच्छा जताई है. रोहतगी ने कहा है कि वो पहले 5 साल वाजपेयी सरकार में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल रह चुके हैं. अब 3 साल एटॉर्नी जनरल के पद पर रहे. अब दोबारा निजी प्रैक्टिस करना चाहते हैं. मीडिया से बातचीत में उन्होंने इसके पीछे कोई वजह नहीं बताई.

2 जून को सरकार ने रोहतगी समेत 7 विधि अधिकारियों को अंतरिम सेवा विस्तार दिया था. नियम के मुताबिक एटॉर्नी जनरल, सॉलिसिटर जनरल और एडिशनल सॉलिसिटर जनरल का कार्यकाल 3 साल का होता है. इसे 2 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. हालांकि, सरकार ने सिर्फ अगले आदेश तक कार्यकाल बढ़ाने की बात कही थी.

मुकुल रोहतगी देश के आला वकीलों में शुमार हैं. जून 2014 में एटॉर्नी जनरल बनने से पहले वो सुप्रीम कोर्ट के सबसे महंगे और व्यस्त वकीलों में से एक थे. वो वित्त मंत्री अरुण जेटली के बेहद करीबी माने जाते हैं.