फैसला आने से पहले आसाराम ने अपने भक्‍तों को लिखी चिट्ठी

12
SHARE

5 साल से यौन शोषण के आरोप में जेल में बंद आसाराम पर 25 अप्रैल को जोधपुर कोर्ट अपना फैसला सुनाएगी. आसाराम ने भक्तों को फैसले से पहले एक चिट्ठी लिखी है. एक नाबालिग लड़की के साथ यौन शोषण के मामले में आसाराम भले ही 2013 से जेल में बंद हों लेकिन दिल्ली के रिज रोड के उनके आश्रम में आज भी भक्तों को न केवल उनपर अटूट विश्वास है बल्कि पूरी उम्मीद भी कि आसाराम 25 अप्रैल को जेल से रिहा हो जाएंगे. यहां इकट्ठा भक्त भजन के माध्यम से बापू की रिहाई की प्रार्थना कर रहे हैं.

आसाराम के भक्तों के मुताबिक देश भर से वो लोग फैसले वाले दिन जोधपुर जाने की तैयारी कर रहे थे पर अचानक आसाराम ने जेल से भक्तों के नाम एक चिट्ठी भेज दी है. इस चिठ्ठी में लिखा है, ’25 अप्रैल को जोधपुर आकर अपना धन बर्बाद न करें, आप जहां हैं वहीं रहकर रिहाई की प्रार्थना करें और कानून का पालन करें.’ भक्तों का कहना है कि अब वो जोधपुर नहीं जाएंगे.

आसाराम पर उन्हीं की एक नाबालिग भक्त के साथ यौन शोषण और उसे बंधक बनाने का आरोप है. पुलिस ने आसाराम और उसके जोधपुर आश्रम के 4 कर्मचारियों के खिलाफ 6 नवंबर 2013 को ही आरोप पत्र दाखिल कर दिया था. इस केस 58 गवाह हैं. आसाराम के खिलाफ जिन धाराओं में केस दर्ज किया गया है उनमें उम्रकैद तक कि सज़ा का प्रावधान है. अब सबकी निगाहें 25 अप्रैल के फैसले पर टिकी हैं.

आसाराम के समर्थक शांति बनाए रखने का दावा कर रहे हों पर राजस्थान पुलिस को फैसले के दिन कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका है, इसलिए जोधपुर में धारा 144 लगा दी गयी है कोर्ट का फैसला जेल के अंदर ही सुनाया जाएगा.