तमिलनाडु विधानसभा में भारी हंगामा, 2 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात

9
SHARE

तमिलनाडु मुख्यमंत्री इडाप्पडी के. पलानीस्वामी के विधासनभा में विश्वास मत का प्रस्ताव रखने पर जो हंगामा हुआ उसके कारण सदन को एक बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया| विधायकों ने सदन में कुर्सियां तोड़ी और पेपर फाड़े, यही नहीं डीएमके के विधायकों ने स्पीकर पी धनपाल के साथ बदसलूकी भी की जिसके बाद स्पीकर सदन छोड़कर चले गए| इसके बाद डीएमके विधायक कु का सेल्वम स्पीकर की कुर्सी पर बैठकर विरोध प्रदर्शन करने लगे| बाद में स्पीकर ने डीएमके विधायकों को बाहर निकालने का आदेश दे दिया और सदन को दोपहर तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दिया| स्पीकर ने कहा ‘मैं कैसे बताऊं आज विधानसभा में मेरे साथ क्या हुआ|’ सदन के बाहर 2 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है|

इससे पहले पूर्व सीएम पन्नीरसेल्वम के सीक्रेट बैलेट के निवेदन क गर्वनर ने विचार के लिए स्पीकर तक विचार के लिए पहुंचाया| हालांकि स्पीकर ने इस निवेदन को दरकिनार करते हुए कहा है कि ‘विधायकों की सुरक्षा मेरी जिम्मेदारी है|’

डीएमके नेता एमके स्टालिन ने वोटिंग को स्थगित करने की मांग की है| उन्होंने कहा कि जब गवर्नर ने 15 दिन दिए हैं तो जल्दी किस बात की है| वहीं बताया जा रहा है कि सदन में किसी भी रिपोर्टर को जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है और मीडिया और पुलिस के बीच झड़प की खबरें भी आ रही हैं| पूर्व सीएम पन्नीरसेल्वम ने कहा है कि जनता की राय जानना जरूरी है और उसके बाद ही फ्लोर टेस्ट होना चाहिए| वहीं OPS कैंप के सेम्मलई ने आरोप लगाया है कि शशिकला द्वारा उन्हें रिज़ोर्ट में बंद करके रखा गया था| शनिवार को ही AIADMK के एक और विधायक ने पाला बदलते हुए पलानीस्वामी के खिलाफ वोट देने की बात कही है| 234 सदस्यों की विधानसभा में पलानीसामी को 117 विधायकों का समर्थन चाहिए रहेगा| सुबह उनके पास स्पीकर को छोड़कर 122 विधायक थे यानि अगर छह और विधायकों ने भी ऐन वक्त पर सीएम का पाला छोड़ दिया तो वह हार सकते हैं| हालांकि डीएमके और पन्नीरसेल्वम ने पलानीस्वामी का विरोध करने का ऐलान किया है|

गुरुवार को सरकार बनाने का निमंत्रण देते हुए राज्यपाल चौधरी विद्यासागर राव ने पलानीस्वामी को विश्वास मत हासिल करने को कहा था| नई सरकार को सदन में बहुमत साबित करने के लिए हालांकि 15 दिनों का समय दिया गया था लेकिन पलानीस्वामी ने दो दिन में ही बहुमत साबित करने का फैसला किया है|