अमेरिकी चुनाव और नोट पर बैन के फैसले से सदमे में बाजार

8
SHARE
बुधवार को शेयर बाजारों में भारी गिरावट देखने को मिली। अमेरिकी चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप की जीत की संभावना से बढ़ने से सेंसेक्स 1600 अंकों की गिरावट के साथ खुला। मार्केट खुलते ही निवेशकों के 7 लाख करोड़ रुपए डूब गए हैं। हालांकि, भारत सरकार द्वारा 500 और 1000 के नोट बदलने के फैसले को भी इस गिरावट से जोड़ कर देखा जा रहा है।  
निफ्टी फ्यूचर्स सिंगापुर एक्सचेंज सुबह 7.15 बजे 1.75 फीसदी गिरावट के साथ ट्रेड करते देखा गया। वहीं, जापान का निक्केई 2.26 फीसदी गिर गया।

बताते चलें कि 8 नवंबर को बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 111.44 लाख करोड़ रुपए था। लेकिन, बुधवार को मार्केट गिरते ही ये आंकड़ा 104.35 लाख करोड़ रुपए के स्तर पर आ गया।

बुधवार के कारोबार में सबसे ज्यादा गिरावट रियल्टी सेक्टर इंडेक्स में देखने को मिल रही है। इंडेक्स 12 फीसदी से ज्यादा की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है। इसमें10 स्टॉक्स तेज गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। ट्रंप की जीत की संभावना से पूरे मार्केट पर दबाव है।

वहीं, बड़े नोट को एक झटके में बंद करने से रियल्टी सेक्टर और दबाव बढ़ गया है|