अखिलेश के दलाल कहने से दुखी, मेरे साथ ऐसा बर्ताव हो रहा है जैसे मैं हत्या-बलात्कार का अपराधी हूं: अमर सिंह

25
SHARE
सपा परिवार के विवाद के केंद्र में रहे अमर सिंह ने गुरुवार को खुलकर बयान दिया। अखिलेश यादव ने उन्हें दलाल कहा था। इस पर अमर सिंह ने कहा- दलाल कहे जाने से दुखी हूं। मेरे साथ ऐसा बर्ताव किया जा रहा है जैसे मैंने हत्या-बलात्कार कर दिया है। अगर मुझे कुछ होता है इसके लिए रामगोपाल जिम्मेदार होंगे।” बता दें कि हफ्ते भर से सपा परिवार में विवाद हो रहा है। अखिलेश यादव इस पूरे विवाद के लिए ‘बाहरी’ अमर सिंह को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। वहीं शिवपाल और मुलायम अमर सिंह के साथ हैं। अमर सिंह ने कहा- अखिलेश की शादी के एलब्म की हर तस्वीर में है ये दलाल…
– ‘मैं अखिलेश के शब्‍दों से (दलाल वाले बयान) आहत हूं। उनकी शादी की कोई ऐसी तस्‍वीर नहीं है, जिसमें ये ‘दलाल’ न रहा हो।’
– ‘जब अखिलेश का परिवार उनकी शादी का विरोध कर रहा था, तब मैं ही अकेला था जो उन्‍हें सपोर्ट कर रहा था।’
– ‘हो सकता है कि मैं सीएम के साथ न हूं, लेकिन मैं हमेशा मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश के साथ रहूंगा।’
– ”ऑस्ट्रेलिया मैं ले गया था। विवाह के दौरान सब विरोध में थे लेकिन मैं अखिलेश के साथ खड़ा रहा। उनकी शादी के एल्बम में ये दलाल हर जगह है। मैं दूंगा आठ घंटे का हिसाब। मैं अखिलेश और मुलायम दोनों के साथ हूं।”
– बता दें कि तीन दिन पहले अमर सिंह ने लखनऊ में सपा नेताओं के साथ मीटिंग में कहा था- अमर सिंह के करीबी उनके कैबिनेट में नहीं रहेंगे।
– अमर सिंह को अखिलेश पहले ही बाहरी शख्स बता चुके हैं।
”रामगोपाल से डर गया हूं”
– ”मेरी दो लड़कियां हैं और अभी तो मैं रामगोपाल के धमकी वाले बयान से डर गया हूं।”
– ”आदमी जब सत्ता में होता है तो रुख अलग होता है। मुझे धमकी दी गई है। मैंन सरकार से सुरक्षा की गुहार लगाता हूं।”
– ”अब दो नाबालिग बेटियों और पत्नी के लिए जीना चाहता हूं। मेरी जान गई तो रामगोपाल जिम्मेदार।”
– ”ये काम कर रहे हैं कि कलम से कार्बाइन तक जानते हैं।”
परिवार में विवाद के लिए मैं जिम्मेदार नहीं
– अमर सिंह ने कहा, ‘जब यूपी सपा प्रेसिडेंट की पोस्‍ट पर अखिलेश यादव ने शिवपाल की जगह ली, तब भी मुझे ही इसके लिए जिम्मेदार बताया गया। मुझ पर आरोप लगाने के बजाए शिवपाल ने पार्टी ऑफिस में नए यूपी प्रेसिडेंट का स्‍वागत किया।’
– अखिलेश आपका नाम क्यों लेते हैं? इस सवाल पर कहा-” शाहजहां और औरंगजेब अगर मुद्दा है तो अखबार के संपादक को बुलाकर पूछ लीजिए।”
– ”मैं जहां जाता हूं वहीं फोन आ जाते हैं। मुझे ऐसा लगता है जैसे मैंने कोई हत्या या बलात्कार का आरोपी हूं। मेरा पीछा किया जा रहा है।”