अमर के लिए मुलायम-शिवपाल बेकरार, अखिलेश से बढ़ी तकरार

7
SHARE

समाजवादी पार्टी में चल रहे घमासान में बाप-बेटा, चाचा-भतीजा एक-दूसरे के सामने खड़े हैं. यादव कुनबे के इस बिखराव में जो एक नाम बार-बार सामने आ रहा है, वह है- अमर सिंह.

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ और कद्दावर नेता अमर सिंह का नाम इस विवाद में बार-बार जपा जा रहा है. सोमवार को सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की ओर से सोमवार को बुलाई गई बैठक में भी एक ही नाम जो दोहराया जा रहा था, वह था- अमर सिंह.

बैठक के दौरान सीएम अखिलेश से लेकर सपा मुखिया मुलायम सिंह तक सभी ने अपने संबोधन में अमर सिंह का जिक्र किया.

अखिलेश ने कहा, षड्यंत्रकारी हैं अमर सिंह

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव की उपस्थिति में अमर सिंह पर सीधा निशाना साधा है. उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि अमर सिंह ने पहले ही ये कह दिया था कि अखिलेश यादव नवंबर तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे.

सीएम अखिलेश यादव ने इस दौरान बेहद भावुक भाषण दिया. कई बार उनकी आंखों में आंसू आ गए, लेकिन बार-बार उन्होंने मुलायम की ओर रुख कर कहा कि परिवार में साजिश रचाई गई है. अखिलेश ने अपने संबोधन में अमर सिंह पर निशाना साधते हुए अस्पष्ट शब्दों में समाजवादी पार्टी में कलह का जिम्मेदार अमर सिंह को ही बताया.

शिवपाल ने कहा, सपा के कई नेता अमर सिंह के पैरों की धूल के बराबर भी नहीं

समाजवादी पार्टी और यादव परिवार के बीच गहराया हुआ संकट अब एक-दूसरे के नीचे गिराने के स्तर पर पहुंच गया है. सपा दफ्तर में पहले अखिलेश ने अमर सिंह को षड्यंत्रकारी बताया और कहा कि उन्हें सीएम पद से हटाने की साजिश रची गई. वहीं, दूसरी ओर शिवपाल यादव ने अमर सिंह का विरोध करने वालों को कहा कि वे अमर के पैरों की धूल के बराबर भी नहीं हैं. उन्होंने कहा कि अमर सिंह से संबंधों को लेकर उन्हें कतई मलाल नहीं है. शिवपाल ने समाजवादी पार्टी में अमर सिंह की भूमिका को उल्लेखनीय बताया.

अखिलेश को हैसियत दिखाते हुए बोले मुलायम, अमर सिंह मेरा भाई है

अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बाद सपा सुप्रीमो ने मंच संभाला. अपने भाषण के दौरान मुलायम ने अमर सिंह का पक्ष लेते हुए अखिलेश यादव को नसीहत के साथ कड़ी फटकार भी लगाई. मुलायम ने मंच से कहा कि शिवपाल और अमर सिंह मेरे भाई हैं. उनके खिलाफ में एक शब्द भी नहीं सुन सकता. सपा प्रमुख ने इमरजेंसी और संकट के दिनों में शिवपाल और अमर सिंह से मिली मदद का जिक्र किया.

उन्हें संघर्ष का साथी बताते हुए मुलायम ने कहा कि अगर अमर सिंह न होते तो वो जेल के अंदर चले जाते. बेहद गुस्से में लग रहे मुलायम ने कहा, तुम लोग अमर सिंह को बाहर करने की बात करते हो. वो मेरा भाई है. उसने मेरी मदद की है. वो नहीं होता तो मैं जेल के भीतर होता. मुझे कमजोर मत समझो. मेरे एक इशारे पर आज भी नौजवान खड़े हो जाएंगे.

लंबे समय के बाद मुलायम ने चुप्पी तोड़ी तो वो बेहद गुस्से में नजर आए. उनका सारा गुस्सा बेटे अखिलेश यादव पर था. उन्होंने अखिलेश को हवा में न उड़ने की नसीहत दी.

अमर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- अखिलेश शानदार मुख्यमंत्री, लेकिन जननेता बनने में समय लगेगा

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता अमर सिंह ने अखिलेश यादव के लगाए आरोपों से इनकार किया. उन्होंने कहा कि अखिलेश गलत सोच रहे हैं. वह पार्टी को बर्बाद करने की कोशिश नहीं कर रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव एक शानदार मुख्यमंत्री हैं, लेकिन उन्हें जननेता बनने के लिए समय चाहिए.

उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री के तौर पर अखिलेश यादव पूरी तरह शानदार हैं. पहली बार शासन संभालने वाले व्यक्ति के तौर पर विकास पर उनका ध्यान, विकास का उनका एजेंडा बेहतरीन है. मैं यह नहीं कह रहा कि वह जननेता नहीं हैं, लेकिन जननेता बनने में समय लगता है.