इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने की अधिसूचना जारी

88
SHARE

इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने के योगी सरकार के फैसले के एक हफ्ते के भीतर ही इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. ने शनिवार को इलाहाबाद जिले का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने की अधिसूचना की जानकारी देते हुए कहा कि जिले के समस्त कार्यालयों के सभी कामकाज में जिला इलाहाबाद की जगह अब प्रयागराज प्रयोग किए जाने का निर्देश जारी किया गया है। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू है।
बता दें कि 13 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इलाहाबाद प्रवास के दौरान एक बैठक में अखाड़ा परिषद और और अन्य लोगों ने मुख्यमंत्री से कुंभ मेले से पहले ही जिले का नाम परिवर्तित कर प्रयागराज करने की मांग की थी। नाम बदलने पर सहमति के बाद 16 अक्टूबर को यूपी कैबिनेट की बैठक में नए नाम प्रयागराज पर मुहर लगा दी गई थी। इसके बाद राज्यपाल ने भी इसे मंजूरी दे दी।
जिलाधिकारी कार्यालय से जारी ज्ञापन के मुताबिक, उत्तर प्रदेश शासन के राजस्व अनुभाग-5 अधिसूचना संख्या 1574/1-5-2018-72/2017 के माध्यम से 18 अक्टूबर, 2018 को राज्यपाल राम नाईक ने जिला इलाहाबाद का नाम परिवर्तित कर प्रयागराज कर दिया। साथ ही, यह भी निर्देशित किया गया है कि इस अधिसूचना की किसी बात का प्रभाव किसी विधि न्यायालय में पहले से चल रहे या विचाराधीन किसी विधिक कार्यवाही पर नहीं पड़ेगा।
योगी सरकार के इस फैसले का साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने स्वागत किया है और सीएम योगी को इसके लिए बधाई दी है। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि का कहना है कि सीएम योगी और उनकी सरकार ने इलाहाबाद को उसका पुराना गौरव वापस दिलाया है। उनका कहना है कि नाम अब बदला नहीं गया है, बल्कि पुराना नाम फिर से रखा गया है, उन्होंने नाम बदलने का विरोध करने को गलत बताया है।