देवबंद के मौलाना मसूद मदनी पर झाड़फूंक के बहाने बलात्कार करने के आरोप में मिली जमानत

39
SHARE

उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने देवबंद के मौलाना मसूद मदनी की जमानत मंजूर कर ली है। मौलाना मसूद मदनी पर झाड़फूंक के बहाने बलात्कार करने का आरोप है। यह आदेश न्यायमूर्ति एके त्रिपाठी ने दिया है। मौलाना मसूद मदनी उत्तराखंड सरकार में दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री थे। इनका कहना है कि उन्हें हनी ट्रैप में झूठा फसाया गया है। राज्य सरकार की तरफ से बताया गया कि मोनिका ने फर्जी नाम से पैसे एठने के लिए जाल बिछाया था। हरक सिंह रावत को फंसाने में भी इसी गैंग का हाथ था। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने भी हनी ट्रेप में फंसा पैसे एठने के गिरोह का खुलासा किया है। यही गिरोह लोगो को फंसा कर रूपये एठता है।विवेचना अधिकारी ने बताया कि मोनिका अपने पति के साथ मदनी के पास मजार पर गयी। उसने कहा कि उसे औलाद नहीं है। जिसपर मदनी ने झाड़फूंक की और रात में बलात्कार किया और कहा कि औलाद हो जायेगी। इस आरोप में प्राथमिकी दर्ज कराई। विवेचना के दौरान खुलासा हुआ कि मोनिका असली नाम नहीं है। जिसे वह पति बता रही, वह उसका पति नहीं है और जिसको अपना पिता बताया वह असली पिता नहीं है। गैंग लीडर नेत्रपाल है जो जाल बिछाता है और लोगों को फंसा के रूपये एठता है। मदनी की तरफ से कहा गया कि उन्हें फसाया गया है। कोर्ट ने जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया।<