‘जॉली एलएलबी 2’ असली कोर्ट में

14
SHARE

10 फरवरी को रिलीज होने वाली अक्षय कुमार की फिल्‍म ‘जॉली एलएलबी 2’ की रिलीज पर कानूनी तलवार अभी भी लटक रही है| बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने तीन एमिकस क्यूरी (अदालत की मदद करने वाले वकील) को नियुक्त करते हुए इस फिल्‍म को देखने को कहा है| नियुक्त किए गये एमिकस क्यूरी को इस बात का पता लगाना है कि क्या फिल्म में ज्यूडिशियरी या वकीलों की छवि खराब की गई है या नहीं| वकील आरएन ढ़ोर्डे और वी जे दीक्षित बुधवार को फिल्म देखेंगे और शुक्रवार को हाई कोर्ट में अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे| जिसके बाद मामले की सुनवाई की जायेगी|

हाईकोर्ट बेंच ने फिल्म के प्रोड्यूसर से मूवी की स्क्रीनिंग करने को कहा है| अक्षय कुमार की फिल्म ‘जॉली एलएलबी-2’ 10 फरवरी को रिलीज होने वाली है| बता दें कि वकील अजय कुमार वाघमारे ने बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर कर फिल्म के टाइटल से ‘एलएलबी’ शब्द को हटाने की मांग की थी| वाघमारे में अपनी याचिका में ट्रेलर के कई सीन्‍स का जिक्र करते हुए लिखा है कि इसमें किरदारों को कोर्ट परिसर के अंदर पत्ते खेलते और डांस करते दिखाया गया है, जिससे वकील के पेशे की छवि धूमिल होती है|

यह फिल्‍म साल 2013 की हिट फिल्‍म ‘जॉली एलएलबी’ का सीक्‍वेल है| पहली फिल्‍म में जॉली की भूमिका अरशद वारसी ने निभायी थी और यह फिल्‍म राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार के लिए चुनी गई थी| अक्षय कुमार ने न्‍यूज एजेंसी आइएएनएस को दिए एक इंटरव्‍यू में कहा, ‘ मैं अरशद का बहुत शुक्रगुजार हूं, जिन्‍होंने मुझे यह बताया कि यह फिल्‍म कैसे करनी है| उन्‍होंने मेरे लिए एक रास्‍ता बना दिया है, उन्‍होंने मेरे लिए चीजें आसान कर दी|’

याचिका में इस बात की भी मांग की गई कि फिल्म के ट्रेलर को तत्काल प्रभाव से सोशल मीडिया और टीवी चैनलों पर बंद किया जाए|