बंगले में तोड़फोड़ नहीं हुई है, योगी सरकार उपचुनावों में हार से बौखला गई है

38
SHARE

सरकारी बंगले में तोड़-फोड़ पर सफाई देने आए अखिलेश यादव ने कहा कि सरकारी बंगले में अभी भी मेरे कुछ सामान पड़े हैं, बीजेपी सरकार उसे लौटा दें. उस बंगले में जो मेरा सामान था, वही ले गया. आखिर कहां था स्वीमिंग पूल, हमें भी दिखा दीजिए वह पूल. मैं रिपोर्ट का इंतजार कर रहा हूं.

बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में अखिलेश यादव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले वह घर मुख्यमंत्री के तौर पर मुझे मिलने वाला था. इसलिए मैंने अपनी पसंद के हिसाब से बनवाया था. उन्होंने टोटी दिखाते हुए कहा कि आज मैं यह लेकर आया हूं, सरकार बताए तो मैं पूरी टोटी दे दूंगा.

अखिलेश ने कहा कि बंगले में वुडेन फ्लोरिंग के साथ ही तमाम चीजें अभी भी जस की तस हैं. ​एक टूटे हुए कोने की तस्वीर इस तरह से खींची गई कि लगे कि पूरा बंगला ही खराब कर दिया गया. उन्होंने कहा कि लोग प्यार में अंधे होते होंगे पर जलन और नफरत में अंधे होते हैं ये मैंने देखा है. टोटी कौन तोड़ता है. अफीमची या भांग खाने वाला. वह अफीमची कौन था, जो टोटी तोड़ने गया.

उन्होंने कहा कि अगर स्टेडियम था तो मेरा था. स्टील स्ट्रक्चर इसलिए था क्योंकि कल होकर हटाना हो तो उसे हटा पाउं. सरकार के लोगों ने ऐसी फोटो ली, ताकि हमें बदनाम किया जाए. दूसरे कोने से यह फोटो ली जाती तो शानदार बिल्डिंग दिखाई देती. अखिलेश यादव ने कहा कि बंगले में तोड़फोड़ नहीं हुई है. योगी सरकार उपचुनावों में हार से बौखला गई है. ये लोग तोड़फोड़ की झूठी खबरें फैला रहे हैं. उन्होंने कहा कि लोग प्यार में अंधे होते होंगे पर जलन और नफरत में अंधे होते हैं, ये मैंने देखा है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने मेट्रो, एनएच दी है. हम कुछ भी करते हैं तो काफी बढ़िया करते हैं. हमने सीएम आवास को भी अच्छे से बना कर रखा.

अखिलेश ने कहा कि बंगले को मैंने अपनी पसंद से बनवाया था. आज भी वहां पर जो वुडेन फ्लोरिंग लगी है, मंदिर है और अन्य चीजें हैं, मैंने अपने पैसे से लगवाई हैं. आरोपों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उनके द्वारा बंगला खाली करने के बाद ओएसडी अभिषेक और आईएएस अफसर मृत्युंजय नारायण वहां गए थे. मैं पूछना चाहता हूं कि वह क्या करने गए थे? ये लोग फोटोग्राफर लेकर गए थे? पीडब्ल्यू की टीम गई थी.

उन्होंने यह भी कहा कि देश में अगला प्रधानमंत्री किसे बनाना है, इसके लिए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को मेहनत करनी है और सरकारी बंगला में तोड़फोड़ की जो अफवाहें फैलाई गई हैं, उसके खिलाफ लोगों में सही जानकारी पहुंचानी है. अधिकारियों पर हमला बोलते हुए कहा कि जो अधिकारी टोटी ढूंढ कर ला सकते हैं, वह कल चिलम ढूंढ कर भी ला सकते हैं.

उन्होंने कहा कि मैंने अपनी जरूरतों के हिसाब से उस सरकारी बंगले में चीजें लगाई थीं. जब मुझे यह बंगला मिला तो उसमें जो भी चीजें मिली, उसकी एक पूरी लिस्ट है. अगर उस लिस्ट के हिसाब से कोई सामान गायब होगा तो मैं उसके लिए जिम्मेवार हूं. उन्होंने कहा कि हमने घर को सजाया है, न कि बिगाड़ा है.