अखिलेश यादव रिकार्ड 52 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की बिजली परियोजनाओं की सौगात देने जा रहे हैं

11
SHARE

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अरबों रुपये के तोहफों की बारिश करने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अब प्रदेशवासियों को रिकार्ड 52 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की बिजली परियोजनाओं की सौगात देने जा रहे हैं। 23 दिसंबर किसान दिवस के मौके पर आज एटा में आयोजित एक समारोह में मुख्यमंत्री इन परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास के पत्थर से पर्दा हटाएंगे|

इन परियोजनाओं से वर्ष 2020 से बिजली मिलने लगेगी। राज्य विद्युत उत्पादन निगम की660 मेगावाट हरदुआगंज विस्तार परियोजना के प्रदूषण को न्यूनतम रखने के लिए देश में लगने वाले पहले अत्याधुनिक यंत्र (एससीआर व एफजीडी) का शिलान्यास भी मुख्यमंत्री करेंगे। मुख्यमंत्री 5640 करोड़ रुपये के ट्रांसमिशन उपकेंद्र व लाइनों का भी लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे। ऐन वक्त पर इनमें कुछ और परियोजनाओं को भी शामिल किया जा सकता है। पॉवर कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक एपी मिश्र का कहना है कि इन परियोजनाओं से गर्मियों में भी प्रदेश को बिजली कटौती से जूझना नहीं पड़ेगा|

परियोजना लागत(रु. करोड़ में)
1320 मेगावाट की जवाहरपुर तापीय परियोजना – 10566.00
1320 मेगावाट की जवाहरपुर तापीय परियोजना -10416.00
660 मेगावाट की हरदुआगंज वि. परियोजना में प्रदूषण नियंत्रण यंत्र- 574.00
अनपरा डी परियोजना की 500 मेगावाट की 7वीं यूनिट का लोकार्पण- 3900.00
ललितपुर तापीय परियोजना की 1320 मेगावाट की दो यूनिटों का लोकार्पण – 11000.00
बारा तापीय परियोजना की 1320 मेगावाट की दो यूनिटों का लोकार्पण – 10340.00
बारा-मैनपुरी ट्रांसमिशन परियोजना के तहत उपकेंद्र व लाइनों का लोकार्पण – 1900.00
मैनपुरी-ग्रेटर नोएडा ट्रांसमिशन परियोजना के तहत उपकेंद्र व लाइनों का लोकार्पण – 2100.00
400, 220, 132 केवी के उपकेंद्रों का लोकार्पण – 1640.76