हर परिवार में झगड़ा होता है लेकिन मीडिया को इस तरह से नहीं दिखाना चाहिए : अखिलेश यादव

9
SHARE

अखिलेश यादव का कहना है कि टीवी पर उनके परिवार के झगड़े को कुछ ज्यादा ही दिखाई पड़ा जिसका असर यूपी चुनाव के परिणामों पर दिखा। अखिलेश के मुताबिक पारिवारिक झगड़ा मीडिया में आना भी हार का एक कारण है। बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अखिलेश का यह दर्द छलक आया। दरअसल बीते मंगलवार अखिलेश ने शिवपाल से संबंधित सवाल सुनकर तिलमिलाते हुए एक वरिष्ठ पत्रकार को भगवाधारी बता दिया था जिसके बाद से उनके व्यवहार को लेकर तमाम सवाल उठने लगे थे।

अखिलेश के मुताबिक हर परिवार में झगड़े होते हैं लेकिन मीडिया को इस तरीके से नहीं दिखाया जाना चाहिए थे जिस तरह से दिखाया गया। इससे पब्लिक में गलत संदेश गया और नतीजतन उनकी पार्टी को बुरी तरह शिकस्त झेलनी पड़ी। अखिलेश ने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि परिवार से जुड़े सवालों पर मई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जवाब देंगे लेकिन बशर्ते उनसे दोबारा वे सवाल न पूछे जाएं।

अखिलेश ने अंबेडकर जयंती पर हुए सहारनपुर हिंसा का जिक्र करते हुए कहा कि सूबे का माहौल सांप्रदायिक बनाने की कोशिश लगातार की जा रही है। बीजेपी के नेता यह सब करवा रहे हैं। कानून व्यवस्था बेहद लचर है। अखिलेश बोले कि जो लोग हमारी कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते थे वे अब चुप हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अक्सर कानून व्यवस्था को लेकर चिट्ठी लिखने वाले राज्यपाल राम नाईक अब योगी सरकार पर सवाल नहीं उठा रहे हैं।

 

सुकमा नकसली हमले पर अखिलेश बोले कि यह घटना बेहद दुखद है लेकिन वो बीजेपी के नेता अब कहां हैं जो कहते थे कि नोटबंदी से नक्सलवाद खत्म हो गया है। अखिलेश ने इस दौरान सपा की पांच सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट भी पेश की जिसमें कहा गया कि सहारनपुर हिंसा में बीजेपी नेताओं की अहम भूमिका रही है।