कांग्रेस को यह सीट देना सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव की मजबूरी

20
SHARE

आगरा। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जिले की नौ में से एक सीट कांग्रेस को दी है। यह सीट ऐसे ही नहीं दी है। अखिलेश यादव के पास और कोई चारा ही नहीं था। मजबूरी में कांग्रेस को सीट देनी पड़ी है।

कांग्रेस ने किया था श्रेष्ठ प्रदर्शन

सपा ने आगरा दक्षिण सीट गठबंधन के तहत कांग्रेस प्रत्याशी नजीर अहमद को दी है। नजीर अहमद जूता व्यवसायी हैं। साफ-सुथरी छवि है। इस छवि के बूते उन्होंने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2012 में कांग्रेस की टिकट पर सबसे अच्छा चुनाव लड़ा था। 2012 में भी कांग्रेस के पास कुछ नहीं था। तब उन्होंने करीब 40 हजार वोट प्राप्त किए थे। वे तीसरे नम्बर पर रहे थे। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सप्पो उस्मानी 13,400 वोट हासिल कर पाए थे। बावजूद इसके कि 2012 में समाजवादी पार्टी के पक्ष में हवा चली थी। कांग्रेस के श्रेष्ठ प्रदर्शन को देखते हुए आगरा दक्षिण सीट कांग्रेस को देनी पड़ी।
दो बार टिकट काटा
समाजवादी पार्टी ने सबसे पहले राज्य महिला आयोग की सदस्य डॉ. रोली तिवारी मिश्रा को टिकट दिया था। वे शिवपाल को अपना राजनीतिक गुरु मानती हैं। उन्हीं शिवपाल ने डॉ. रोली का टिकट काट दिया। उनके स्थान पर यहां से क्षमा जैन सक्सेना को प्रत्याशी घोषित किया। दोनों महिला प्रत्याशियों ने प्रत्याशी रहने तक जमकर चुनाव प्रचार किया। अखिलेश यादव ने क्षमा जैन का टिकट काट दिया। वैसे क्षमा जैन सक्सेना के प्रत्याशी बनने के साथ ही यह कहा जाने लगा था कि उनका टिकट काटा जाएगा और यही हुआ।
रात्रि में ही संकेत मिल गया था
नजीर अहमद को 19 जनवरी की रात्रि में ही संकेत दे दिए गए थे कि उन्हें आगरा दक्षिण से टिकट दिया जा रहा है। इसी कारण उन्होंने रात्रि में क्षमा जैन सक्सेना से सहयोग मांगा था। बताया गया है कि क्षमा जैन सक्सेना ने हार नहीं मानी है। वे अभी इस प्रयास में है कि गठबंधन का प्रत्याशी उन्हें घोषित कर दिया जाए।
सपाइयों का भ्रम दूर किया
सपाइयों को यह भ्रम था कि नजीर अहमद साइकिल चुनाव चिह्न पर लड़ेंगे, लेकिन उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि उनका चुनाव चिह्न हाथ है। इसे लेकर वे सोशल मीडिय पर भी सक्रिय हो गए हैं। वे कहीं भी समाजवादी पार्टी या साइकिल का उल्लेख नहीं कर रहे हैं।
आगरा दक्षिणः विधानसभा चुनाव 2012 का चुनाव परिणाम
योगेन्द्र उपाध्याय भाजपा 74,324
जुल्फिकार अहमद भुट्टो बसपा 51,364
नजीर अहमद कांग्रेस 39,962
सप्पो उस्मानी सपा 13,408
चौधरी बशीर 9,211