नोट बंदी मेंमरने वालों के परिजनों को अखिलेश ने दी 2-2 लाख की सहायता राशि

14
SHARE

सीएम अखिलेश यादव ने आज अपने सरकारी आवास पर नोट बंदी में पैसे निकालते समय जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान की।मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज अपने सरकारी आवास पर चार शहीदों के साथ ही नोट बंदी में पैसे निकालने व इसके विरोध में प्रदेश में प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वाले 15 व्यक्तियों के परिवार के लोगों को आर्थिक सहायता प्रदान की। इस मौके पर सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री ने बिना किसी से कोई वार्ता किए ही देश में नोटबंदी का फैसला कर लिया। अखिलेश ने कहा कि कोई भी पैसा काला-सफेद नहीं होता। लेनदेन काला-सफेद होता है|

देश में नोट बंदी के कारण लोग परेशान हो रहे हैं। उनका यह फैसला भले ही लोगों को रास आएगा लेकिन फिलहाल लोग बेहाल हैं। अखिलेश ने कहा कि यह सच है कि देश में काला धन बाहर आ रहा है, लेकिन काला धन एक बार फिर से जमा हो रहा है। देश में कालाधन और भ्रष्टाचार खत्म होना चाहिए। नोटबंदी से लोग परेशान हुए हैं, देश की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हुई है। अखिलेश ने एक बार फिर कहा कि जो सरकार जनता को दुख देती है। जनता उसे हटा देती है। प्रधानमंत्री ने गरीबों के लिए जनधन खाता खुलावाया लेकिन अब उसमें काला धन जमा हो रहा है|

अखिलेश यादव ने कहा कि देश में पार्टियां कितना चंदा ले सकती हैं, उसकी को एक गाइड लाइन है। बेकार पर इस प्रकरण में बहस हो रही है। सीएम ने कहा कि हम उत्तर प्रदेश में विकास की नई परिभाषा बना रहे हैं। इसके बाद भी केंद्र सरकार का आरोप है कि हम केंद्र की धनराशि का उपयोग नहीं कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में नीति आयोग बन जाने के बाद केंद्र ने हमको दी जाने वाली धनराशि में कटौती की है। हम उसके बाद भी अपने काम में लगे हैं। हम केंद्र सरकार की हर योजना में सहयोग कर रहे हैं|

अखिलेश ने कहा प्रदेश के शहर में अब 24 तथा गांव में 18 घंटे बिजली दे रहे हैं। हमने गोरखपुर में एम्स के लिए जमीन दी। अब उत्तर प्रदेश में विकास से विजय की ओर रथ लगातार चल रहा है। कल ही एटा में बिजली का ऐतिहासिक फैसला लिया। हमने आगरा एक्सप्रेस-वे बनाने का काम किया। अब एक्सप्रेस-वे पर 100 किमी की रफ्तार से ज्यादा न चलें।प्रदेश में एक बार फिर समाजवादी लोग सरकार बनाने जा रहे हैं। सपा की फिर सरकार बनेगी। इस बार तो हमारे प्रदेश में नोटबंदी भी चुनाव का मुद्दा होगा। अब तो नाला में पैसा बह रहा है। हमको पता चला कि लखनऊ में कुकरैल नाले में भी पैसे बह रहे हैं|